mayawati-yogi adityanath
बसपा प्रमुख मायावती और उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ / फोटो: दिप्रिंट
Text Size:
  • 914
    Shares

नई दिल्ली: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष मायावती ने चुनाव आयोग द्वारा उन पर लगाई गई पाबंदी की समय सीमा समाप्त होते ही उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधा. इसके साथ ही उन्होंने चुनाव आयोग के प्रति नरम-गरम दिखीं. पिछले दिनों धर्म के नाम पर बयानबाजी करने के आरोप में चुनाव आयोग ने एक के बाद एक चार नेताओं पर सख्ती करते हुए चुनाव प्रचार और रैलियों पर पाबंदी लगा दी थी. इसमें मायावती के साथ-साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, रामपुर से सपा के प्रत्याशी आज़म खान और भाजपा की सुलतानपुर से प्रत्याशी मेनका गांधी के नाम भी शामिल है. मायावती पर 16 अप्रैल सुबह छह बजे से 48 घंटों के लिए प्रतिबंध लगाया गया था, जो आज सुबह समाप्त हो गया. जिसके खत्म होते ही मायावती ने ट्वीट कर सीधे मुख्यमंत्री योगी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और मतदाताओं को मतदान करने के लिए प्रेरित किया.

मायावती ने ट्वीट कर कहा, ‘चुनाव आयोग की पाबंदी का खुला उल्लंघन करके उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी शहर-शहर व मंदिरों में जाकर एवं दलित के घर बाहर का खाना खाने आदि का ड्रामा करके तथा उसको मीडिया में प्रचारित/प्रसारित करवा के चुनावी लाभ लेने का गलत प्रयास लगातार कर रहे हैं किन्तु आयोग उनके प्रति मेहरबान है, क्यों?’

उन्होंने आगे लिखा, ‘अगर ऐसा ही भेदभाव व भाजपा नेताओं के प्रति चुनाव आयोग की अनदेखी व गलत मेहरबानी जारी रहेगी तो फिर इस चुनाव का स्वतंत्र व निष्पक्ष होना असंभव है. इन मामलों में जनता की बेचैनी का समाधान कैसे होगा? बीजेपी नेतृत्व आज भी वैसी ही मनमानी करने पर तुला है जैसा वह अब तक करता आया है, क्यों?’

चुनाव आयोग पर कभी नरम कभी गरम 

साथ ही उन्होंने चुनाव आयोग की तारीफ करते हुए लिखा, ‘माननीय सुप्रीम कोर्ट की यह संतुष्टि काफी महत्वपूर्ण है कि चुनाव आयोग उतना लाचार व कमजोर नहीं है जितना वह अपने आपको साबित कर रहा था. लेकिन इस तथ्य व आमधारणा की सही जांच व परख होनी बाकी है कि आयोग वाकई स्वतंत्रता व निष्पक्षता से काम कर रहा है एवं केन्द्र के आगे नतमस्तक नहीं है?’

पीएम घबराए हुए हैं

वहीं दूसरी तरफ मायावती ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि आज दूसरे चरण का मतदान है और बीजेपी व पीएम श्री मोदी उसी प्रकार से नरवस व घबराए लगते हैं जैसे पिछले लोकसभा चुनाव में हार के डर से कांग्रेस व्यथित व व्याकुल थी. इसकी असली वजह सर्वसमाज के गरीबों, मजदूरों, किसानों के साथ-साथ इनकी दलित, पिछड़ा व मुस्लिम विरोधी संकीर्ण सोच व कर्म है.

गौरतलब है कि आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले में बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती पर चुनाव आयोग ने प्रचार-प्रसार करने पर 48 घंटे की रोक लगाई थी.

वहीं मायावती ने दूसरे चरण के देश भर में व ख़ासकर उत्तर प्रदेश के सर्वसमाज के मतदाताओं, युवाओं व महिलाओं से अपील की है कि वे लोकसभा के लिए आज हो रहे दूसरे चरण के मतदान में भी वोट डालने के अपने संवैधानिक हक का भरपूर इस्तेमाल करें.

महिला के सम्मान पर भी बीजेपी पर साधा निशाना

लगातार बीजेपी पर हमला कर रही मायावती ने ट्विटर पर उन्होंने बीजेपी पर महिलाओं के सम्मान पर कई सवाल उठाए हैं उन्होंने लिखा, ‘चुनाव में हर प्रकार के अनर्गल आरोपों के अलावा बीजेपी के नेतागण व स्वंय पीएम श्री मोदी की जुबान लगातार बेलगाम रही है जैसेकि विपक्ष पर यह आरोप कि वे उन्हें गाली देते रहते हैं बहुत ही अशोभनीय व अमर्यादित है.

महिला सम्मान से जुड़े मामलों में भी बीजेपी की भूमिका अच्छी नहीं रही है. विपक्ष को अनेकों प्रकार के उत्तेजनाओं के बावजूद एक-दूसरे पर टिप्पणी करने के मामले में शालीनता की सीमा नहीं लांघनी चाहिए. इससे बीजेपी को अपनी कमजोरी छिपाने व लोगों को वरगलाने का मौका मिल जाता है. वैसे भी सत्ताधरी पार्टी पर आयोग की पकड़ सख्त होगी तभी जनविश्वास पैदा होगा.


  • 914
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here