news on politics
बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए | ट्विटर
Text Size:
  • 16
    Shares

नई दिल्लीः पश्चिम बंगाल में अमित शाह के रोड शो में हुई झड़प के बाद तकरार अब तेज हो गई है. मामला पुलिस और चुनाव आयोग तक पहुंच गया है. इसको लेकर अमित शाह ने बुधवार को दिल्ली में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी पर जमकर आरोप लगाये और ममता की उलटी गिनती शुरू होने की बात कही.

वहीं मामले में तृणमूल कांग्रेस ने भी एफआईआर दर्ज कराया है और मामला चुनाव आयोग लेकर पहुंच गई है.

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि अब तक चुनाव के 6 चरण समाप्त हो चुके हैं, इनमें सिवाय बंगाल के कहीं भी हिंसा नहीं हुई. वह ममता जी को बताना चाहते हैं कि आप सिर्फ 42 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं और भाजपा देश के सभी राज्यों में मगर कहीं पर भी हिंसा नहीं हुई, लेकिन बंगाल में हर चरण में हिंसा हुई इसका साफ़ मतलब है कि हिंसा टीएमसी कर रही है. रोड शो से पहले ही वहां लगे पोस्टर फाड़ दिए गए. रोड शो शुरू हुआ, जिसमें अभूतपूर्व जनसैलाब उमड़ा, 2.30 घंटे तक शांतिपूर्ण तरीके से रोड शो चला. 3 बार हमले किये गए और तीसरे हमले में तोड़फोड़, आगजनी और बोतल में केरोसिन डालकर हमला किया गया.

शाह ने कहा कि रोड शो पर पथराव करने की तस्वीरें मौजूद हैं. कालेज परिसर में दार्शनिक ईश्वरचंद विद्यासागर की प्रतिमा किसने तोड़ा इन तस्वीरों में देखा जा सकता है. बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि कालेज में लगी मूर्ति टीएमसी के लोग तोड़े हैं. कालेज का कमरा किसने खोला. चाबी किसके पास थी. इस कालेज के प्रशासन पर टीएमसी का कब्जा है इसलिए यह सब ममता के लोगों ने किया है. वोट की राजनीति के लिए प्रतिमा को तोड़ने के बाद ममता की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है. रोड शो में जिस तरह का जनसैलाब देखने को मिला है उससे तय है कि ममता बंगाल में चुनाव हारने जा रही हैं.

उन्होंने कहा कि 6 चरण के चुनाव में के बाद अब उनको हार सुस्पष्ट दिखाई दे रही है. बंगाल में चुनाव आयोग मूकदर्शक बना हुआ है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि ‘चुनाव आयोग को बंगाल में निष्पक्ष चुनाव कराना चाहिए. दीदी ने सार्वजनिक रूप से कहा है मैं बदला लूंगी. इस बयान पर चुनाव आयोग ने क्यों संज्ञान नहीं लिया गया. चुनाव आयोग ने उनके प्रचार पर बैन क्यों नहीं लगाया. मुझे पूरी आशा है कि चुनाव आयोग बंगाल में कोई एक्शन नहीं लेगा. शुरू से ही वह पक्षपात कर रहा है. अब तक बंगाल के मामले में चुनाव आयोग ने कुछ नहीं किया है. शाह ने कहा कि कल के घटनाक्रम में अगर सीआरपीएफ नहीं होती तो मैं बचकर नहीं आ सकता था. सौभाग्य से ही बचकर मैं आया हूं.’

हिंसा से कुछ नहीं होगा, चुनाव जीतने का तरीका मुझसे सीख लें 

शाह ने आरोप लगाते हुए कहा कि चुनाव जीतने के लिए ममता दीदी ऐसी घटनाएं करवा रही हैं. उन्होंने कहा कि दीदी, ऐसी चीजों से चुनाव नहीं जीते जाते हैं. चुनाव लड़ने और लड़ाने का अनुभव मेरे पास आपसे ज्यादा है. दीदी यह हिंसा फैलाने से कुछ नहीं होगा. आपने जो स्थिति बनाई है उससे बंगाल की जनता परेशान है अगर आप को चुनाव जीतने का तरीका सीखना है तो मेरे पास आकर सीख लें. बंगाल में जो हिंसा का तांडव चल रहा है. इस पर पूरे देश को ध्यान देना चाहिए. बंगाल की जनता ने तय कर लिया है कि इस बार वह टीमएसी को उखाड़ फेकेगी. भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि वह पूर्णत: आश्वस्त हैं कि 300 से ज्यादा सीटें लेकर आएंगे.

एफआईआर से नहीं डरते, डटकर करेंगे बंगाल में काम 

शाह ने कहा कि ‘मुझ पर एफआईआर की खबर मिली है. हम इससे डरते नहीं है. हमारे कई कार्यकर्ताओं की जान आपकी पार्टी के गुडों ने ली है. हमने कुछ नहीं किया. हम फिर भी डटकर बंगाल में काम करेंगे. ममता दीदी आपको 23 मई को जनता जवाब देगी. लोकसभा चुनावों में 23 से ज्यादा सीटें हासिल करेंगे.’

कांग्रेस और टीएमसी एक साथ

शाह ने कहा कि राज्य में कांग्रेस और टीएमसी एक साथ हैं. सभी लोग गठबंधन में एक साथ हैं. उनका लक्ष्य लोकतंत्र बचाओ नहीं, मोदी हटाओं है. यह लोग नेता प्रतिपक्ष बनाने के लिए कोई मोर्चा बना रहे हैं तो हमें कोई आपत्ति नहीं है. क्या पता इस बार भी किसी दल के पास नेता प्रतिपक्ष चुनने के लिए सीटें ही नहीं आएं. तृणमूल कांग्रेस राजनीति के लिए किसी भी स्तर तक जा सकती है. कुछ छिपाने के लिए नहीं है तो ममता दीदी किसी निष्पक्ष एजेंसी से जांच करवा लें. पुलिस से भी जांच करवा लें. शाह ने कहा किसी राज्य में कोई घटना क्यों नहीं हो रही है. केवल बंगाल में ही हिंसा हो रही है. ममता दीदी इस मुद्दे पर इतनी भोली नहीं बन रही है. दीदी मैं भगवान नहीं हूं, लेकिन आप भी अपने आप को भगवान मत समझें.

गौरतलब है कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के रोड के दौरान ट्रक पर लाठियां बरसाए जाने के बाद कोलकाता में झड़पें हुईं थीं. बाद में पुलिस ने लाठीचार्ज का सहारा लिया. शाह का रोड शो शाम 4ः30 बजे मध्य कोलकाता के एस्प्लेनेड इलाके से चलकर उत्तरी कोलकाता के स्वामी विवेकानंद भवन जाकर समाप्त हुआ था.


  • 16
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here