NEWS ON UHNRC
मिशेल बाचेलेत की फाइल फोटो । दिप्रिंट
Text Size:

संयुक्त राष्ट्र: संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाचेलेत ने पुलवामा आतंकवादी हमले के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की अपील की है.

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त के प्रवक्ता रुपर्ट कोल्विले ने जिनेवा में मंगलवार को कहा कि बाचेलेत ने 14 फरवरी को जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में भारतीय सुरक्षा बलों के खिलाफ हुए आत्मघाती हमले की कड़ी निंदा की है और प्राधिकारियों से हमले के जिम्मेदार लोगों को न्याय के कटघरे में लाने की अपील की है.

उन्होंने एक वीडियोकास्ट बीफ्रिंग के दौरान कहा, ‘हम उम्मीद करते हैं कि दो परमाणु संपन्न पड़ोसी देशों भारत व पाकिस्तान के बीच बढ़ता तनाव क्षेत्र की असुरक्षा को और नहीं बढ़ाएगा.’

एक बयान में कहा गया कि वे भारतीय अधिकारियों ने स्थिति से निपटने के लिए कार्रवाई की है. उन्होंने कहा कि बाचेलेत उन रिपोर्टो को लेकर चिंतित हैं, जिनमें कहा गया है कि ‘कुछ तत्व कश्मीरी व अन्य मुस्लिम समुदायों को निशाना बनाकर खतरे और हिंसा के संभावित कृत्यों को न्यायोचित ठहराने के लिए पुलवामा हमले का इस्तेमाल कर रहे हैं.’

कोल्विले ने कहा, ‘हम आशा करते हैं कि सरकार जातीयता या पहचान के आधार पर पहुंचाए जाने वाले हर तरह के नुकसान से लोगों को सुरक्षित रखने के लिए कदम उठाना जारी रखेगी.’

इससे पहले बाचेलेत कश्मीर में मानवाधिकार पर टिप्पणी को लेकर भारत की आलोचना झेल चुकी हैं और कोल्विले के बयान में संतुलन दिखाने की कोशिश की गई है.

गुटेरेस का तनाव कम करने का आह्वान

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले के बाद उपमहाद्वीप में तनावपूर्ण स्थिति को कम करने का आह्वान किया है.हमले में 40 भारतीय सुरक्षाकर्मी मारे गए.

उनके प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने मंगलवार को संवाददाताओं से कहा, ‘हम 14 फरवरी को पुलवामा में भारतीय सुरक्षाकर्मियों पर हुए हमले के मद्देनजर दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ने से बेहद चिंतित हैं.’

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान की स्थायी प्रतिनिधि मालीहा लोधी ने गुटेरेस और सुरक्षा परिषद के अध्यक्ष एनेटोलियो डोंग एम्बा (इक्वेटोरियल गिनी के) से अलग-अलग मुलाकात कर उन्हें ‘खतरनाक स्थिति’ से अवगत कराया.

‘एसोसिएटेड प्रेस ऑफ पाकिस्तान’ के अनुसार, लोधी ने कहा कि मुलाकातों के दौरान उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की भारत के साथ ‘रचनात्मक और सार्थक बातचीत’ की पेशकश को दोहराया.

एजेंसी ने लोधी के हवाले से कहा कि उन्होंने उन्हें आश्वासन दिया कि एक जिम्मेदार देश के रूप में पाकिस्तान शांति और संयम से काम करना जारी रखेगा, लेकिन हमारे धैर्य की परीक्षा नहीं ली जानी चाहिए. ‘जैसा कि आज प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि भारत की ओर से पाकिस्तान के खिलाफ उठाया गया कोई भी कदम जवाबी कार्रवाई का न्योता होगा.’


Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here