Saturday, 21 May, 2022
होमविदेशघर बैठे 'होम टेस्ट' के जरिए भी चल सकता है ओमीक्रॉन का पता, लोकिन विशेषज्ञों के मुताबिक सटीकता थोड़ी कम

घर बैठे ‘होम टेस्ट’ के जरिए भी चल सकता है ओमीक्रॉन का पता, लोकिन विशेषज्ञों के मुताबिक सटीकता थोड़ी कम

‘होम टेस्ट’ के उपयोग को लेकर सरकार की सिफारिशें बदली नहीं हैं. तुरंत संक्रमण का पता लगाने के लिए लोगों को उनका उपयोग करना जारी रखना चाहिए.

Text Size:

वाशिंगटन: कोरोनावायरस के नए स्वरूप ‘ओमीक्रॉन’ का क्या घर पर जांच (होम टेस्ट) करके पता लगाया जा सकता है…? इस सवाल का जवाब तो हां है, लेकिन अमेरिका के कुछ स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि कई बार ‘वायरल लोड’ कम होने पर यह अक्सर संक्रमण का पता नहीं लगा पाता.

‘होम टेस्ट’ (घर पर किट से जांच) के उपयोग को लेकर सरकार की सिफारिशें बदली नहीं हैं. तुरंत संक्रमण का पता लगाने के लिए लोगों को उनका उपयोग करना जारी रखना चाहिए.

‘कॉलेज ऑफ अमेरिकन पैथोलॉजिस्ट’ की अध्यक्ष डॉ. एमिली वोल्क ने कहा, ‘सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह कोविड-19 का पता लगा लेते हैं, चाहे वह डेल्टा, अल्फा या ओमीक्रॉन कोई भी स्वरूप हो.’

सरकारी वैज्ञानिक यह सुनिश्चित करने के लिए जांच कर रहे हैं कि ‘रैपिड’ जांच अब भी कारगर है या नहीं. इस हफ्ते, खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) ने कहा था कि प्रारंभिक शोध से संकेत मिले हैं कि जांच में ‘ओमीक्रॉन’ स्वरूप का पता चलता है, लेकिन ‘वायरल लोड’ कम होने पर यह अक्सर संक्रमण का पता नहीं लगा पाता.

एजेंसी ने इस बात पर जोर दिया कि वे अब भी इस बात का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि हर नए स्वरूप पर जांच कैसे काम करती है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अमेरिका में संक्रामक रोग के विशेषज्ञ डॉ. एंथनी फाउची ने कहा कि एफडीए पूरी तरह ‘पारदर्शिता’ रखना चाहता है, सटीकता थोड़ी कम हो सकती है लेकिन जांच अब भी उतनी ही महत्वपूर्ण है.

वोल्क ने कहा कि ‘होम टेस्ट’ के कई फायदे हैं. इसका इस्तेमाल कर आप परिवार और दोस्तों के साथ सुरक्षित माहौल में समय बिता सकते हैं.


यह भी पढ़े: WHO प्रमुख ने किया आगाह, कहा- ओमीक्रॉन और डेल्टा के मिलने से संक्रमण मामलों में आ सकती है ‘सुनामी’


share & View comments