Monday, 27 June, 2022
होमराजनीतियोगी का अखिलेश पर निशाना, कहा- करहल में सपा कैंडीडेट की जमानत जब्त हो जाएगी

योगी का अखिलेश पर निशाना, कहा- करहल में सपा कैंडीडेट की जमानत जब्त हो जाएगी

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आजमगढ़ ने अखिलेश यादव को लोकसभा से सांसद चुना लेकिन चूंकि कोविड के वक्त वे एक बार भी वहां नहीं गए इसलिए वे इस बार वहां से चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा सके.

Text Size:

नई दिल्लीः यूपी के कानपुर में चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि करहल और मैनपुरी में समाजवादी पार्टी की जमानत जब्त हो जाएगी. बीजेपी का कैंडीडेट पहले ही इस चुनाव को जीत चुका है क्योंकि सपा का कैंडीडेट मुकाबले से बाहर है.

इसके अलावा राम मंदिर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस साल के अंत तक राम लला की मूर्ति को अयोध्या में शिफ्ट कर दिया जाएगा ताकि भारत में राम राज्य की नींव पड़ सके.

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश द्वारा कोविड मैनेजमेंट का जो सिस्टम सेट किया गया है उसकी तारीफ पूरे विश्व में हो रही है. डबल इंजन की सरकार ने वैक्सीन की डबल डोज़ और साथ ही राशन की भी डबल डोज़ दी है.

इसके अलावा शुक्रवार को ही मैनपुरी में बोलते हुए उन्होंने कहा कि जिसे यादव परिवार का गढ़ कहा जाता है वहां बीजेपी सभी चारों सीटों को यहां जीत रही है.

उन्होंने कहा कि सपा के नेता करहल में अपनी आसन्न हार की वजह से अपना आपा खो रहे हैं. एसपी सिंह बघेल पर हमला उनकी कायरता का सबसे बड़ा सबूत है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

मुख्यमंत्री ने कहा कि आजमगढ़ ने अखिलेश यादव को लोकसभा से सांसद चुना लेकिन चूंकि कोविड के वक्त वे एक बार भी वहां नहीं गए इसलिए वे इस बार वहां से चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा सके.

सपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं आपको आश्वासन देने आया हूं कि मैंने बुल्डोजर को रिपेयर होने के लिए भेज दिया है.’

उन्होंने आगे कहा कि सपा और बहुजन समाज पार्टी ने अपने कार्यकाल के दौरान लोगों का काफी नुकसान किया. साल 2017 के पहले राज्य में काफी अराजकता फैली हुई थी और बच्चियों, महिलाओं व बिजनेसमैन की सुरक्षा नहीं थी. लेकिन राज्य में बीजेपी का शासन काल आने के बाद लोग खुद ही अंतर देख सकते हैं.

बता दें कि यूपी में सात चरणो के लिए चुनाव 10 फरवरी से शुरू हो चुका है, जिसमें से दो चरणों का चुनाव हो चुका है. जबकि तीसरे चरण का चुनाव 20 फरवरी को है. मतगणना 10 मार्च को होगी.


यह भी पढ़ेंः समाजवादी पार्टी की शिकायत पर उत्तर प्रदेश की तिलहर सीट से भाजपा प्रत्याशी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज


 

share & View comments