news on politics
सपा प्रमुख अखिलेश यादव और बसपा प्रमुख मायावती, फाइल फोटो.
Text Size:

लखनऊ: राजनीति में एक वर्ष का समय लंबा होता है. उत्तर प्रदेश में, 2017 से 2018 के दौरान राजनैतिक परिदृश्य में दूरगामी बदलाव हुए.

इनमें एक बदलाव तो ऐसा रहा जिसने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और इसके कार्यकर्ताओं को स्तब्ध कर दिया. यह बदलाव 2 जून 1995 को समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं द्वारा एक गेस्ट हाऊस में जानलेवा हमले का शिकार बनने के बाद इस पार्टी (सपा) की कट्टर दुश्मन बनीं बहुजन समाज पार्टी (बसपा) नेता मायावती द्वारा पुरानी बातों को भुलाने और सपा के साथ हाथ मिलाने के रूप में सामने आया.

इसे इस बीतते वर्ष की उत्तर प्रदेश की सबसे बड़ी राजनैतिक घटना माना गया क्योंकि इसने दशकों से एक-दूसरे की दुश्मन जैसी रहीं बसपा और सपा के बीच मतभेदों को कम करने की कोशिश की.


यह भी पढ़ें: तीन राज्यों की जीत से उत्साहित कांग्रेस उत्तर प्रदेश में अकेले लड़ सकती है चुनाव


भाजपा को दोनों पार्टी के बीच मतभेदों का हमेशा फायदा मिलता रहा था और पार्टी हमेशा यह सोचती थी कि ‘दोनों पार्टियां कभी एक साथ नहीं होंगी’. इसी वजह से भाजपा की सीट में चुनाव दर चुनाव इजाफा होता चला गया. लेकिन, इनके साथ आने के साथ ही गोरखपुर, कैराना और फूलपुर की संसदीय सीट उपचुनाव में भाजपा के हाथ से निकल गई.

मायावती और अखिलेश यादव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अपनी राजनैतिक दूरी की वजह से एक-दूसरे से जुड़े हैं. इसके अलावा दोनों 2019 में मोदी के दोबारा सत्ता में वापसी को लेकर भी आशंकित हैं.

यहां के राजनीतिक पर्यवेक्षकों का कहना है कि ‘यह क्षेत्रीय छत्रपों के लिए एकमात्र विकल्प है, क्योंकि इन्होंने पहले खुद को बचाने के लिए चुनाव लड़ा और सफलता नहीं मिली.’ 2014 के लोकसभा चुनाव में जब मोदी को यहां जबरदस्त जीत मिली थी, तो बसपा को एक भी सीट प्राप्त नहीं हुई थी और सपा को केवल 4 सीट प्राप्त हुई थी. वहीं विधानसभा चुनाव में सपा को केवल 50 सीट मिलीं और बसपा 19 सीटों पर सिकुड़ गई थी.

दोनों पार्टियों के बीच गठजोड़ से उन्हें मतदाताओं का साथ भी मिला, सपा को गोरखपुर, फुलपूर और इसकी समर्थित राष्ट्रीय लोकदल को कैराना उप-चुनाव में जीत हासिल हुई.

उप चुनाव में हाथ आजमाने के बाद, दोनों पार्टी 2019 लोकसभा चुनाव के लिए सीट बंटवारे के समझौते पर कमोबेश तैयार हैं. अखिलेश यादव जानते हैं कि मायावती को अपने पाले में बनाए रखना आसान काम नहीं है, लेकिन उनका रवैया अपने पिता मुलायम सिंह यादव से अलग है और वह बसपा से गठबंधन के लिए थोड़े बहुत समझौते के लिए भी तैयार हैं.

यहां तक की भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी कह चुके हैं कि सपा व बसपा के साथ आने से पार्टी को उत्तर प्रदेश में हानि होगी. भाजपा कैंप के शीर्ष नेता हालांकि ऐसा न हो, यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहे हैं.

सपा के पुष्ट सूत्रों ने कहा, ‘प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) से लेकर सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) तक सभी काम में लगे हुए हैं, लेकिन हम इसबार भाजपा को हराने के लिए तैयार हैं.’

एक अन्य बड़े घटनाक्रम में सपा से शिवपाल सिंह यादव का अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी बनाना भी रहा. इस पार्टी के प्रवक्ता दीपक मिश्रा ने कहा कि बेहद कम समय में हमारी पार्टी का सांगठनिक ढांचा बन गया है और हम 2019 के आम चुनाव को लेकर उत्साहित हैं.

कुंडा के बाहुबली विधायक राजा भैया द्वारा जनसत्ता नाम से अपनी पार्टी बनाना भी एक बड़ा राजनैतिक घटनाक्रम रहा. वह सवर्णों के पक्ष में एससी-एसटी कानून का विरोध कर रहे हैं.


Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here