Saturday, 28 May, 2022
होमराजनीतिलखीमपुर जाने से सिर्फ हमें रोका जा रहा है, देश में लोकतंत्र नहीं तानाशाही चल रही है: राहुल गांधी

लखीमपुर जाने से सिर्फ हमें रोका जा रहा है, देश में लोकतंत्र नहीं तानाशाही चल रही है: राहुल गांधी

राहुल गांधी ने मीडिया को निशाने पर लेते हुए कहा कि इस मुद्दे को उठाने की जिम्मेदारी मीडिया की है लेकिन जब हम सवाल उठाते हैं तब आप लोग इसे राजनीति बताते हैं.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि वो आज लखीमपुर खीरी जाने की कोशिश करेंगे. उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र खत्म हो गया है और अब तानाशाही चल रही है.

बुधवार को प्रेस को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘कुछ समय से देश के किसानों पर सरकार का आक्रमण हो रहा है. किसानों को जीप के नीचे कुचला जा रहा है. उनकी हत्या की जा रही है. भाजपा के मंत्री के बेटे पर कोई एक्शन नहीं लिया जा रहा है.’

गांधी ने कहा कि किसानों की आवाज को कुचला जा रहा है और विपक्ष के नेताओं को लखीमपुर खीरी जाने से रोका जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘धारा 144, 5 लोगों को रोकती है, हम 3 लोग जा रहे हैं. हमने उनको चिट्ठी लिख दिया है. विपक्ष का काम दबाव बनाने का है ताकि कार्रवाई हो.’

हालांकि उत्तर प्रदेश सरकार ने राहुल गांधी को लखीमपुर जाने की इजाजत देने से मना कर दिया है. लखनऊ के पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने कहा, ‘राहुल गांधी ने शासन से सीतापुर और लखीमपुर जाने की अनुमति मांगी थी. हमें अवगत कराया गया है कि शासन ने अनुमति देने से इनकार कर दिया है.’

राहुल ने कहा कि कल प्रधानमंत्री लखनऊ में थे मगर लखीमपुर खीरी नहीं जा पाए.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने कहा, ‘ठीक से पोस्टमार्टम नहीं किया जा रहा है. आज हम 2 मुख्यमंत्रियों के साथ लखीमपुर खीरी जाकर उन परिवारों से मिलने की कोशिश करेंगे.’ गांधी के साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी लखीमपुर जाएंगे.

गांधी ने कहा कि देश के सभी संस्थानों को कंट्रोल किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘विपक्ष का काम दबाव बनाने का होता है, जब हम दबाव बनाते हैं तब कार्रवाई होती है. हाथरस में भी जब हमने दबाव बनाया तो कार्रवाई हुई थी. लेकिन सरकार चाहती है कि हम इस मुद्दे को ना उठाएं और न ही कोई दबाव बनाएं.’

गांधी ने कहा, ‘लखीमपुर जाकर हम देखना चाहते हैं, परिस्थिति को समझना चाहते हैं, परिवार को सपोर्ट देना चाहते हैं. सिर्फ हमें रोका जा रहा है और बाकी पार्टियों को जाने दिया जा रहा है, हमने क्या गलती की है?’

राहुल गांधी ने मीडिया को निशाने पर लेते हुए कहा कि इस मुद्दे को उठाने की जिम्मेदारी मीडिया की है लेकिन जब हम सवाल उठाते हैं तब आप लोग इसे राजनीति बताते हैं.

उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री मोहसिन रजा ने एक टीवी चैनल से बात करते हुए राहुल गांधी और कांग्रेस पर इस मामले पर राजनीति करने का आरोप लगाया और उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में जाने की किसी को इजाजत नहीं है. उन्होंने आरोप लगाया कि ये लोग वहां दंगा कराना चाहते हैं.

बता दें कि कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी समेत कई विपक्षी नेताओं तो लखीमपुर जाने से रोक दिया गया था. प्रियंका गांधी अभी तक नजरबंद हैं. लखीमपुर खीरी की घटना में अब तक 8 लोगों के अलावा एक पत्रकार की भी मौत हुई है. एडिटर्स गिल्ड ने सरकार से मांग की है कि वो पत्रकार रमन कश्यप की मौत के मामले में कोर्ट की निगरानी में स्पेशल टीम से जांच कराए.

गौरतलब है कि सत्तारुढ़ भारतीय जनता पार्टी विपक्षी नेताओं पर लखीमपुर की घटना को लेकर राजनीति का आरोप लगा रही हैं. वहीं भाजपा नेता वरुण गांधी ने किसानों के पक्ष में एक बयान जारी किया था और मामले की जांच की मांग की थी.


यह भी पढ़ें: मोदी ‘सब चंगा सी’ की तरह व्यवहार कर और लखीमपुर खीरी पर चुप रहकर बच नहीं सकते


 

share & View comments