Sunday, 3 July, 2022
होमराजनीतिशरद पवार के रफाल पर बयान का हवाला देते हुए, तारिक़ अनवर ने एनसीपी छोड़ी

शरद पवार के रफाल पर बयान का हवाला देते हुए, तारिक़ अनवर ने एनसीपी छोड़ी

Text Size:

तारिक अनवर, जिन्होंने शरद पवार और पीए संगमा के साथ एनसीपी का गठन किया था का कहना है कि पार्टी प्रमुख शरद पवार के बयान ने एनडीए को जीवनदान दे दिया है.

नई दिल्ली: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के महासचिव तारिक अनवर, जो बिहार के कटिहार से सांसद हैं, ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है.

अनवर ने दिप्रिंट को बताया कि वह लोकसभा से भी इस्तीफा दे देंगे.

अनवर ने कहा, “आने वाले दिनों में मैं एक सांसद पद से इस्तीफा दे दूंगा. और उन्होंने पार्टी अध्यक्ष शरद पवार को अपना इस्तीफा भेज दिया है.

अनवर ने यह भी कहा कि उनका यह फैसला पवार की हालिया टिप्पणी जो की एक मराठी समाचार चैनल को दी गयी थी के बाद लिया, जिसमें एनसीपी प्रमुख ने कहा था कि रफाल डील में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इरादों के बारे में लोगों को “संदेह नहीं है”.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अनवर ने कहा, “जब पूरा विपक्ष एकजुट है और रफाल डील में भ्रष्टाचार पर भाजपा और प्रधानमंत्री को घेर रहा है, तो पवार साहब के इस इस बयान ने एनडीए सरकार को जीवनदान दे दिया है.”


यह भी पढ़ें :  In run-up to 2019, Sharad Pawar wants to be the conductor for opposition harmony


उन्होंने कहा, “मैंने अतीत में भी कई मुद्दों पर आपत्ति की थी – जैसे 2014 में, जब एनसीपी ने विधानसभा चुनावों के बाद महाराष्ट्र में बीजेपी को बिना शर्त समर्थन देने का फैसला किया था.”

अनवर वर्तमान में किसी भी पार्टी में शामिल होने के बारे में चुप है लेकिन उनके पुराने संबंध को देखते हुए, उनके कांग्रेस में शामिल होने की सबसे अधिक संभावना है.

उन्होंने कटिहार से फोन पर दिप्रिंट को बताया कि, “मैं वर्तमान में कटिहार में हूं और आगे कोई भी निर्णय लेने से पहले अपने समर्थकों से बातचीत करूंगा.”

संस्थापक एनसीपी सदस्य

अनवर एनसीपी के संस्थापक सदस्यों में से एक थे. 1999 में, अनवर, पवार और पीए संगमा में साथ में सोनिया गांधी के पार्टी अध्यक्ष बनने के विरोध में और एनसीपी का गठन करने लिए कांग्रेस छोड़ दी थी. उस समय उन्होंने विदेशी मूल के नागरिक को कांग्रेस अध्यक्ष बनाने का विरोध किया था.

संगमा के 2012 में एनसीपी छोड़ने के बाद तिकड़ी टूट गयी थी.

इससे पहले जून 2009 में , संगमा ने सोनिया गांधी से माफ़ी मांग ली थी.

अनवर भी अपने पहले के विचार से पीछे हट गए हैं. पिछले साल दिसंबर में जब राहुल गांधी ने सोनिया गांधी से पार्टी अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला था, तो अनवर ने कहा था कि सोनिया गांधी की विदेशी मूल के बारे में उनकी आशंका गलत साबित हुई क्योंकि उन्होंने पार्टी के लिए कड़ी मेहनत की थी.

Read in English : NCP leader Tariq Anwar resigns, cites Sharad Pawar’s remarks on Rafale and Modi as trigger

share & View comments