Thursday, 19 May, 2022
होमराजनीतिसपा के कार्यक्रम में उड़ीं चुनाव आयोग की गाइलाइन्स और कोरोना नियमों की धज्जियां, DM ने दिए जांच के आदेश

सपा के कार्यक्रम में उड़ीं चुनाव आयोग की गाइलाइन्स और कोरोना नियमों की धज्जियां, DM ने दिए जांच के आदेश

सपा के कार्यक्रम में लोगों का हुजूम देखने को मिला. जिससे लगता है कि न सिर्फ कोरोना की गाइलाइन्स का बल्कि चुनाव आयोग के दिशा निर्देशों के भी उल्लंघन हुआ है.

Text Size:

नई दिल्लीः अभी पिछले हफ्ते ही कोरोना को लेकर यूपी में गाइडलाइन्स जारी की गईं थीं और चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा करते हुए सभी तरह की फिजिकल रैलियों पर 15 जनवरी तक के लिए रोक लगा दी थी.

लेकिन आज लखनऊ में बीजेपी से टूटकर आए स्वामी प्रसाद मौर्या और अन्य आठ विधायकों के सपा में शामिल होने के कार्यक्रम के दौरान लोगों का हुजूम जुट गया. इन लोगों को अखिलेश यादव और अन्य नेताओं ने संबोधित किया.

जिस तरह की भीड़ सपा के इस कार्यक्रम में थी उसे देखकर ऐसा लग रहा था कि नि सिर्फ कोरोना नियमों की धज्जियां उड़ाई जा रही थीं बल्कि चुनाव आयोग द्वारा जारी किए गए दिशा निर्देशों का भी पालन नहीं किया गया. क्योंकि चुनाव आयोग ने सभी तरह की रैलियों, रोडशो इत्यादि पर 15 जनवरी तक के लिए रोक लगा रखी थी.

हालांकि, मामले का संज्ञान लेते हुए लखनऊ के जिलाधिकार अभिषेक प्रकाश ने कहा कि सपा कार्यालय पुलिस की एक टीम भेजी गई है और मामले में जांच के बाद जरूरी कार्रवाई की जाएगी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिप्रिंट ने लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश से संपर्क करने की कोशिश की. लेकिन न ही उनका फोन रिसीव हुआ और न ही खबर लिखने तक मैसेज का जवाब आया था. जवाब मिलने पर खबर को अपडेट किया जाएगा.

भले ही इस मामले में जांच के आदेश दे दिए गए हों लेकिन सवाल यह भी है कि क्या प्रशासन को इस बात की खबर नहीं थी कि सपा का कार्यक्रम होने वाला है और इतनी बड़ी संख्या में लोग वहां पहुंचने वाले हैं. अगर खबर थी तो इसके लिए क्या इंतज़ाम किए गए थे.

बता दें कि इस कार्यक्रम के दौरान अखिलेश यादव के साथ बीजेपी विधायक स्वामी प्रसाद मौर्य, धरम सिंह सैनी, भगवती सागर, विनय शाक्य व अन्य नेता मौजूद थे.

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा कि साइकिल का हैंडल भी ठीक है और दोनों पहिए भी ठीक हैं और साइकिल चलाने वाले भी इतने आ गए हैं कि अब इसकी रफ्तार को कोई रोक नहीं सकता. स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी इस दौरान बीजेपी को सत्ता से उखाड़ फेंकने की बात कही. योगी के 80 बनाम 20 के जवाब में उन्होंने कहा कि 85 तो हमारा है, 15 में भी बंटवारा है.


यह भी पढ़ेंः अखिलेश यादव ने इत्र व्यापारी पीयूष जैन से पल्ला झाड़ा, बोले- BJP ने अपने ही बिजनेसमैन पर मारा छापा


क्या हैं चुनाव आयोग के निर्देश

पांच राज्यों की विधानसभा सीटों के लिए तारीखों की घोषणा करते हुए चुनाव आयोग ने सभी तरह की फिजिकल रैलियों, रोड शो, साइकिल रैली सार्वजनिक सड़कों या चौराहों इत्यादि पर नुक्कड़ सभा करने पर रोक लगा थी थी. ऐसा कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को ध्यान में रखकर लिया गया था.

मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा था कि सभी राज्यों को इन दिशा निर्देशों का पालन करना होगा नहीं
तो उन पर कानूनी कार्रवाई की जाएगी.

क्या है यूपी में कोरोना संबंधी नियम

हाल ही में यूपी में जारी कोरोना गाइडलाइन्स के तहत रात के दस बजे से शाम के 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा. इसके अलावा जिन जिलों में 1000 से ज्यादा कोरोना के ऐक्टिव मामले हैं वहां पर सार्वजनिक प्रतिष्ठान जैसे रेस्तरां, सिनेमा हॉल, स्पा वगैरह 50 फीसदी क्षमता के साथ काम करेंगे. हालांकि, ऐसे जिलों में जिम, पूल और वॉटर पार्क्स वगैरह बंद रहेंगे. वहीं शादी विवाह के लिए बंद जगहों में अधिकतम 100 लोग और खुले स्थानों पर कुल क्षमता के 50 फीसदी से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर मनाही होगी.

‘संसाधन नहीं तो कैसे करें वर्चुअल रैली’

इसके पहले मीडिया से बात करते हुए अखिलेश यादव ने कहा था कि जिनके पास संसाधन नहीं हैं वे लोग वर्चुअल रैली कैसे करेंगे. इसलिए जिन रीजनल पार्टियों के लिए चुनाव आयोग को कोई न कोई व्यवस्था जरूर करनी चाहिए. उन्होंने कहा था कि छोटी पार्टियों को स्पेस कैसे मिलेगा. हालांकि, उन्होंने यह भी कहा था कि जो भी नियम चुनाव आयोग बनाएगा उसका पालन उनकी पार्टी करेगी.


यह भी पढ़ेंः क्या BJP के लिए अखिलेश यादव की ‘नई सोशल इंजीनियरिंग’ की काट खोज पाना बहुत आसान होगा?


 

share & View comments