Wednesday, 5 October, 2022
होमराजनीतिबीजेपी का कहना है, 'हम 100% सीएम बसवराज बोम्मई के नेतृत्व में ही 2023 कर्नाटक चुनाव लड़ेंगे'

बीजेपी का कहना है, ‘हम 100% सीएम बसवराज बोम्मई के नेतृत्व में ही 2023 कर्नाटक चुनाव लड़ेंगे’

भाजपा का यह बयान ऐसे समय आया है जब कर्नाटक सरकार में नेतृत्व परिवर्तन की बात ने महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं में भ्रम पैदा कर दिया है.

Text Size:

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को कहा कि कर्नाटक में 2023 का विधानसभा चुनाव राज्य के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई के नेतृत्व में लड़ा जाएगा.

बोम्मई को ‘कठपुतली मुख्यमंत्री’ करार देने वाली कांग्रेस के लगातार हमले के बीच यह बयान महत्वपूर्ण है.

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के कर्नाटक प्रभारी अरुण सिंह ने कहा कि कांग्रेस द्वारा बोम्मई को हटाने की अटकलों में ‘कोई सच्चाई नहीं’ है.

शुक्रवार को सिंह ने कहा, ‘एक प्रभारी के रूप में मैं आपको यह बता रहा हूं और आपको मेरे बयान पर भरोसा करना चाहिए. मैंने  कहा है कि हम 100 प्रतिशत अगला चुनाव बोम्मई के नेतृत्व में लड़ेंगे. वह एक आम इंसान हैं, वह किसानों, युवाओं, एससी, एसटी के लिए बहुत अच्छा काम कर रहे हैं और हम पूर्ण बहुमत के साथ वापस आएंगे. हमारा लक्ष्य 150 सीटों का है और हम इसे हासिल भी कर लेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘यह कुछ और नहीं बल्कि कांग्रेसी नेताओं डी.के. शिवकुमार और सिद्धारमैया द्वारा जबरदस्ती बनाया गया  विवाद है क्योंकि उनके पास कोई और मुद्दा नहीं है. कांग्रेस एक नेतृत्वविहीन पार्टी है, उनके पास उठाने के लिए कोई मुद्दा नहीं है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सिंह ने कहा उनके पास भाजपा के खिलाफ कोई एजेंडा नहीं है. तो एक योजना के साथ वे ऐसा मुद्दा बनाने की कोशिश कर रहे हैं कि सीएम को बदला जा रहा है. लेकिन इसमें कोई सच्चाई नहीं है, ‘

उनका बयान ऐसे समय में आया है जब कर्नाटक सरकार में नेतृत्व परिवर्तन की बात ने महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं में भ्रम पैदा कर दिया है.

2018 के राज्य विधानसभा चुनाव के बाद 14 महीने तक राज्य में कांग्रेस और जद (एस) की गठबंधन सरकार थी, लेकिन 2019 में अविश्वास मत हारने के बाद यह गिर गई, जिससे भाजपा सरकार के गठन का मार्ग प्रशस्त हुआ.

मुख्यमंत्री बोम्मई हाल ही में दक्षिण कन्नड़ जिले में युवा नेता प्रवीण नेत्तर की हत्या के बाद भाजपा नेतृत्व के निशाने पर आ गए थे. जल्द ही, भाजपा मंत्री उमेश कट्टी ने सुझाव दिया था कि मुख्यमंत्री पद में बदलाव की स्थिति में वह मुख्यमंत्री की दौड़ में होंगे.

इस बीच, भाजपा नेताओं के एक वर्ग का यह भी मानना था कि भले ही सिंह ने कहा है कि बोम्मई को नहीं बदला जाएगा, लेकिन यह अपरिहार्य लगता है.


यह भी पढ़ें: ‘TMC बंगाल केंद्रित’ – 10 महीने बाद उपाध्यक्ष पवन वर्मा ने छोड़ी ममता बनर्जी की पार्टी


‘भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रही कांग्रेस’

हाल ही में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की कर्नाटक यात्रा के बाद नेतृत्व में बदलाव की अटकलों ने गति पकड़ी है

कांग्रेस, जो राज्य में प्रमुख विपक्ष है, ने ट्विटर सहित सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर कई पोस्ट के माध्यम से नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों को हवा दी है. इस महीने की शुरुआत में, कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी कई कार्यक्रमों और चुनावों की योजना में भाग लेने के लिए कर्नाटक गए थे.

सिंह ने कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि विपक्ष, जो खुद ही अंतर्रकलह से जूझ रही है, एक ऐसा मुद्दा बनाने की कोशिश कर रही है जिसमें कोई दम नहीं है.

उन्होंने यह भी कहा, ‘खुद कांग्रेस में  सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है, वे सिर्फ भ्रम पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. कांग्रेस पार्टी कर्नाटक में साजिश रचने में विश्वास रखती है.

(इस लेख को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: श्रीकांत त्यागी का केस अकेला नहीं, नोएडा में बाहुबलियों के खिलाफ शिकायतों की फेहरिस्त काफी लंबी है


 

share & View comments