Saturday, 25 June, 2022
होमराजनीति‘मेरा परिवार भागता परिवार,’ अखिलेश का BJP पर तंज कहा- रोजगार मांगने आए नौजवानों को लाठी मार कर वापस भेजा

‘मेरा परिवार भागता परिवार,’ अखिलेश का BJP पर तंज कहा- रोजगार मांगने आए नौजवानों को लाठी मार कर वापस भेजा

अखिलेश ने कहा कांग्रेस और बीजेपी के बारे में समाजवादियों का यही मानना है कि जो कांग्रेस है, वही भाजपा है और जो भाजपा है वही कांग्रेस है.

Text Size:

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शनिवार को तंज कसते हुए कहा कि जिस तरह से सत्तारूढ़ दल के लोग सपा में शामिल हो रहे हैं उसे देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को अपना नारा ‘मेरा परिवार भाजपा परिवार’ के बजाय ‘मेरा परिवार भागता परिवार’ करना पड़ेगा.

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक राकेश राठौर और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से निलंबित छह विधायकों के सपा में शामिल होने के मौक़े पर अखिलेश ने कहा, ‘राकेश राठौर जी के पार्टी में शामिल होने के बाद हो सकता है मुख्यमंत्री जी अपना नारा बदल दें. इसे मेरा परिवार, भाजपा परिवार के बजाय मेरा परिवार, भागता परिवार कर दें.’

उन्होंने दावा किया, ‘जनता इतनी दुखी है कि आने वाले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश से बीजेपी का सफाया होगा. मैंने जो कहा है कि यह नारा बदलेगा और भाजपा परिवार भागता परिवार ही दिखाई देगा.’ सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव की मौजूदगी में सीतापुर सदर से बीजेपी विधायक राकेश राठौर और बसपा विधायकों असलम राइनी (भिनगा), सुषमा पटेल (मड़ियाहूं), हर गोविंद भार्गव (सिधौली), हाकम लाल बिंद (हंडिया), मुजतबा सिद्दीकी (फूलपुर) और असलम अली चौधरी (धौलाना) ने सपा की सदस्यता ली.

अखिलेश ने किसी का नाम लिए बगैर कहा, ‘आने वाले समय में सपा की सरकार बनने जा रही है. इस वक्त जो सरकार में हैं उनसे मेरा निवेदन है कि वो दीवाली का त्योहार मनाएं और अपने घर की सफाई अच्छे से करा लें, जिससे वहां धुएं के निशान मिट जाएं.’


यह भी पढ़ें: बीजेपी पर हमलावर हुए अखिलेश यादव, कहा-दिल्‍ली के आखिरी छोर तक पार्टी का सफाया करेगा किसान


सपा अध्यक्ष ने साल 2017 के विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी द्वारा बनाए गए संकल्प पत्र के पन्ने पलटते हुए कहा, ‘कल बीजेपी के मंच से कहा गया कि उसने अपने चुनाव घोषणा पत्र के 90 फीसद तक वादे पूरे कर दिए हैं और बाकी बचे हुए दो महीने में पूरे हो जाएंगे.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने दावा किया, ‘बीजेपी के संकल्प पत्र का कोई भी पन्ना आप पलट लीजिए. जनता से किया गया एक भी वादा पूरा नहीं हुआ है. इस चुनाव घोषणापत्र में सबसे पहली बात कही गई थी कि 2022 तक किसानों की कृषि आमदनी दोगुनी करने के लिए विस्तृत रोडमैप तैयार किया जाएगा. आज उत्तर प्रदेश का किसान जानना चाहता है कि आखिरकार आय कब दोगुनी होगी.’

अखिलेश ने आरोप लगाया कि बुंदेलखंड के लोगों ने सबसे ज्यादा बीजेपी पर भरोसा किया लेकिन उसने सबसे ज्यादा विश्वासघात उन्हीं लोगों के साथ किया. अखिलेश ने बीजेपी पर शिक्षण संस्थानों को चौपट करने का आरोप लगाते हुए कहा कि इन संस्थानों में एक खास तरह की सोच के लोगों को बैठा दिया गया है ताकि बरसों बरस उसी सोच के लोग भर्ती होते रहें. इससे बड़ा नुकसान और कुछ नहीं हो सकता है.

अखिलेश ने आगे कहा कि जो नौजवान रोजगार मांगने आया उसे प्रदेश की भाजपा सरकार ने लाठी मारकर वापस भेजा है. इस बार नौजवान वोट डाल कर बीजेपी का सफाया करेगा. उन्होने एक सवाल के जवाब में कहा कि कांग्रेस और भाजपा के बारे में समाजवादियों का यही मानना है कि जो कांग्रेस है, वही भाजपा है और जो भाजपा है वही कांग्रेस है.

उन्होने लखीमपुर खीरी कांड मामले के बाद विवादों से घिरे केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की शुक्रवार को लखनऊ में आयोजित एक कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के साथ मौजूदगी का जिक्र करते हुए कहा, ‘गाड़ी से किसानों को कुचलने की तस्वीरें किसने नहीं देखी. वह वीडियो भी देख लीजिए जिसमें मंत्री ने धमकाया. उस मंत्री को अमित शाह के साथ मंच पर सम्मान दिया जा रहा है.’


यह भी पढ़ें: हंगल और सिंदागी के उपचुनावों में बोम्मई को पास करवाने के लिए BJP को है येदियुरप्पा का आसरा


 

share & View comments