Wednesday, 25 May, 2022
होमदेशTN में स्थानीय निकाय चुनाव से पहले AIDMK की सहयोगी PMK ने छोड़ा साथ, DMK से गठजोड़ पर नजर

TN में स्थानीय निकाय चुनाव से पहले AIDMK की सहयोगी PMK ने छोड़ा साथ, DMK से गठजोड़ पर नजर

पीएमके का कहना है कि एआईएडीएमके के साथ सीटों के बंटवारे पर चर्चा करने के लिए पर्याप्त समय नहीं था, लेकिन बाद के नेताओं ने इसके संस्थापक डॉ एस रामदास को अविश्वास पात्र कहा.

Text Size:

नई दिल्ली: तमिलनाडु में अखिल भारतीय अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) के एक सहयोगी पट्टाली मक्कल काची (पीएमके) ने मंगलवार देर शाम घोषणा की कि वह राज्य में अक्टूबर में होने वाले आगामी स्थानीय निकाय चुनावों के लिए गठबंधन का हिस्सा नहीं होगा.

 

पीएमके द्वारा जारी एक बयान में, जो सोशल मीडिया पर चर्चा में है, इसके अध्यक्ष जीके मणि ने कहा कि वह अकेले चुनाव लड़ेगी, और ऐसा करने का निर्णय एक वर्चुअल सम्मेलन में पार्टी पदाधिकारियों द्वारा सर्वसम्मति से वोट पर आधारित था. मणि ने कहा कि यह फैसला पार्टी के हित में लिया गया है.

पीएमके 2019 के संसदीय चुनावों के साथ-साथ इस साल की शुरुआत में हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनाव दोनों के लिए एआइडीएमके गठबंधन का हिस्सा रही है. भाजपा भी राज्य में इस गठबंधन का हिस्सा है, और स्थानीय निकाय चुनाव अन्नाद्रमुक के साथ लड़ेगी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

वन्नियार के प्रतिनिधि

तमिलनाडु में वन्नियार समुदाय के राजनीतिक प्रतिनिधि माने जाने वाले, पीएमके के संस्थापक एस. रामदास ने 6 अप्रैल को हुए राज्य चुनावों से ठीक पहले घोषणा की थी कि पार्टी अन्नाद्रमुक के साथ तब तक कोई गठबंधन वार्ता नहीं करेगी जब तक कि उनके समुदाय के लिए आरक्षण की मांग पूरी नहीं हो जाती.

राज्य चुनावों के लिए आदर्श आचार संहिता लागू होने से ठीक पहले, अन्नाद्रमुक – जो तब सत्ता में थी – ने सरकारी नौकरियों और शिक्षा में वन्नियारों के लिए 10.5 प्रतिशत आरक्षण दिया था.

हालांकि एआईएडीएमके और उसके सहयोगी 2021 के राज्य चुनाव हार गए, चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज में एसोसिएट प्रोफेसर और राजनीति विज्ञान विभाग के प्रमुख पी. मुथुकुमार ने दिप्रिंट को बताया, कि मौजूदा डीएमके सरकार के आरक्षण को हटाने की संभावना नहीं है. ‘पार्टी को परेशान करने से बचने के लिए वन्नियार वोट बैंक और इसलिए भी कि सुप्रीम कोर्ट ने इस पर स्टे ऑर्डर देने से इनकार कर दिया था.’


यह भी पढ़ें : तमिलनाडु विधानसभा में NEET परीक्षा को लेकर हंगामा, मुख्यमंत्री ने पेश किया विधेयक


अब, पीएमके द्वारा बुधवार को गठबंधन से बाहर निकलने की घोषणा के साथ, अन्नाद्रमुक नेताओं ने आरोप लगाया कि यह ‘स्पष्ट’ था कि पार्टी सत्तारूढ़ द्रमुक के साथ गठजोड़ कर रही थी. हालांकि, पीएमके का दावा है कि गठबंधन से उसका बाहर निकलना केवल स्थानीय निकाय चुनावों तक ही सीमित था, और अन्नाद्रमुक नेताओं ने भी पार्टी के साथ भविष्य के गठबंधन से इंकार नहीं किया है.

केवल अस्थायी उपाय: पीएमके

गठबंधन छोड़ने का कारण बताते हुए, पीएमके के वरिष्ठ नेता बालू के. ने बताया कि स्थानीय निकाय चुनावों के लिए गठबंधन से बाहर होने का एकमात्र कारण एआईएडीएमके के साथ सीट बंटवारे की व्यवस्था पर चर्चा करने के लिए पर्याप्त समय नहीं था. बालू ने यह भी कहा कि पार्टी के कार्यकर्ता स्थानीय निकाय चुनाव लड़ना चाहते हैं, जो वे गठबंधन के तहत नहीं कर पाते.

बालू ने कहा, ‘हम अन्नाद्रमुक और ईपीएस (पूर्व सीएम एडापड्डी के पलानीस्वामी) के लिए बहुत सम्मान करते हैं यह स्थानीय निकाय चुनावों के लिए केवल एक अस्थायी उपाय है. हम अन्यथा एनडीए और अन्नाद्रमुक के सहयोगी हैं.’

हालांकि, यह भी दावा किया जा रहा है कि अन्नाद्रमुक में नेतृत्व संकट के कारण पीएमके ने गठबंधन छोड़ दिया.

इस तरह के दावों को खारिज करते हुए, अन्नाद्रमुक के वरिष्ठ नेता सी. पोन्नईयन ने दिप्रिंट को बताया कि ‘एआईएडीएमके ईपीएस और ओपीएस (पूर्व डिप्टी सीएम ओ. पनीरसेल्वम) के संयुक्त नेतृत्व में अविभाज्य रूप से एकजुट थी, और यह कि ये सभी दावे ‘झूठ’ प्रचारित किए जा रहे थे.’

पोन्नैयान ने कहा कि पीएमके के गठबंधन से बाहर होने से अन्नाद्रमुक की संभावनाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा, और कहा कि दूसरी पार्टी ने हाल के राज्य चुनावों में वन्नियार बेल्ट में 24 सीटों में से केवल पांच सीटों पर जीत हासिल की थी.

पोन्नईयन ने कहा, ‘लोगों ने उनके खिलाफ फैसला किया है.’

इस बीच, अन्नाद्रमुक प्रवक्ता निर्मला पेरियासामी ने आरोप लगाया कि यह स्पष्ट है कि पीएमके यह चुनाव अकेले लड़ रही है ताकि वह बाद में द्रमुक के साथ गठबंधन कर सके.

उसने आरोप लगाया, डॉ रामदास एक विश्वसनीय राजनेता नहीं हैं. यह हमेशा उनकी शैली रही है, तमिलनाडु में हर कोई जानता है उनको पार्टियों के बीच घूमना है.

मुथुकुमार ने दिप्रिंट को यह भी बताया कि पीएमके ‘अवसरवादी राजनीति में सर्वश्रेष्ठ’ थी और अपनी जरूरतों के अनुसार गठबंधनों के बीच चलने के लिए जानी जाती थी.

मुथुकुमार ने कहा, ‘चुनावों के दौरान पीएमके हमेशा से ही परेशान रही है. इस कदम से वे द्रमुक को संकेत दे रहे हैं कि ‘आप हमें कॉल कर सकते हैं.’ हालांकि, ऐसा लगता नहीं है कि द्रमुक पीएमके के साथ गठबंधन का स्वागत करेगी. यह समझना भी महत्वपूर्ण है कि स्थानीय निकाय चुनाव पार्टी पर नहीं बल्कि व्यक्तित्व पर निर्भर करते हैं.

जहां तक ​​अन्नाद्रमुक का सवाल है, मुथुकुमार ने कहा कि विपक्षी दल के सामने पीएमके से भी बड़ी समस्या है. रामदास की तरह, मुथुकुमार ने कहा कि अन्नाद्रमुक ‘पार्टी और आंतरिक मुद्दों में नेतृत्व संकट (ईपीएस और ओपीएस के बीच)’ का सामना कर रहा है.

हालांकि पीएमके से नाराज अन्नाद्रमुक ने पीएमके के साथ भविष्य के गठबंधन से इनकार नहीं किया है, पेरियासामी और पोन्नईयन दोनों ने कहा, ‘राजनीति में, किसी को कभी नहीं कहना चाहिए.’

(इस लेख को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments