scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमराजनीतिपंजाब में AAP ने जीती केवल 3 सीट, पांच में से 4 मंत्री और 3 MLA हारे, CM मान के लिए इसके क्या हैं...

पंजाब में AAP ने जीती केवल 3 सीट, पांच में से 4 मंत्री और 3 MLA हारे, CM मान के लिए इसके क्या हैं मायने

सीएम ने सभी उम्मीदवारों के लिए बड़े पैमाने पर प्रचार किया था और दावा किया था कि उनकी पार्टी पंजाब की सभी 13 सीटें जीतेगी. उनके आग्रह पर ही AAP ने राज्य में कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करने का फैसला किया.

Text Size:

चंडीगढ़: मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब में सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) मंगलवार को अपने “मध्यावधि परीक्षण” में विफल रही, राज्य की 13 लोकसभा सीटों में से सिर्फ तीन पर उसने जीत हासिल की. मार्च 2022 में हुए विधानसभा चुनावों में इसका वोट शेयर 42 प्रतिशत से गिरकर 26.02 प्रतिशत हो गया.

संगरूर, होशियारपुर और आनंदपुर साहिब ही वह सीटें हैं, जिन्हें आप ने जीता है. आप इंडिया में गठबंधन की सहयोगी है. हालांकि, उसने दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, गुजरात और असम में 22 सीटों पर चुनाव लड़ा था. मान के आग्रह पर ही आप ने पंजाब में कांग्रेस के साथ गठबंधन न करने का फैसला किया, जबकि कांग्रेस आलाकमान इसके लिए तैयार थे.

पंजाब के खेल मंत्री गुरमीत सिंह मीत हेयर, जिन्होंने संगरूर से 1.72 लाख वोटों के अंतर से शानदार जीत दर्ज की, के अलावा आप द्वारा मैदान में उतारे गए चार अन्य कैबिनेट मंत्री और तीन विधायक अपनी सीटों पर हार गए, जिससे मतदाताओं ने स्पष्ट रूप से मान की शासन प्रणाली को नकार दिया.

मान ने सभी उम्मीदवारों के लिए पूरे राज्य में काफी प्रचार किया था और दावा किया था कि उनकी पार्टी ‘मिशन 13-0’ के तहत पंजाब की सभी 13 सीटें जीतेगी. पिछले 25 दिनों में सीएम ने पूरे राज्य में 122 रैलियां कीं. पार्टी नेता राघव चड्ढा और दिल्ली के सीएम और आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी राज्य में प्रचार किया था. अपनी छवि खराब करने के अलावा, पंजाब में पार्टी के नेता के तौर पर मुख्यमंत्री की स्थिति भी कमज़ोर हुई है.

गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी, अमृतसर के राजनीति विज्ञान के पूर्व प्रोफेसर डॉ जगरूप सिंह सेखों ने दिप्रिंट से कहा, ‘‘ये चुनाव आप को राज्य में संरचनात्मक संकट में धकेलने के लिए बाध्य हैं. वे सत्ता में हो सकते हैं, लेकिन उन्होंने अपनी वैधता खो दी है. आम आदमी पार्टी ने पंजाब के लोगों को यह सोचकर हल्के में लिया कि वे 2022 का अपना प्रदर्शन दोहरा सकते हैं, लेकिन वे राज्य की प्रमुख चिंताओं जैसे ड्रग्स, अवैध खनन कानून और व्यवस्था और भ्रष्टाचार को दूर करने में विफल रहे.’’

इतिहासकार परमजीत सिंह जज ने कहा कि यह मान का अहंकार ही था जिसकी वजह से राज्य में पार्टी का प्रदर्शन खराब रहा. उन्होंने दिप्रिंट से बातचीत में कहा, ‘‘अहंकार और अच्छी राजनीति एक साथ नहीं चल सकती. अगर मान कांग्रेस के साथ गठबंधन के लिए राज़ी हो जाते तो आज नतीजे बहुत अलग होते.’’

लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस छोड़कर आप में शामिल हुए डॉ. राजकुमार छाबेवाल ने होशियारपुर से 44,000 से अधिक मतों के अंतर से जीत हासिल की, जबकि पार्टी के मुख्य प्रवक्ता मलविंदर सिंह कंग ने आनंदपुर साहिब से 10,000 से अधिक मतों से जीत हासिल की.

कैबिनेट मंत्री डॉ. बलबीर सिंह पटियाला से, कुलदीप सिंह धालीवाल अमृतसर से, गुरमीत सिंह खुद्डियां बठिंडा से, लालजीत सिंह भुल्लर खडूर साहिब से हार गए, जबकि विधायक जगदीप सिंह काका बराड़ फिरोजपुर से, अशोक पराशर पप्पी लुधियाना से और अमंशेर शेरी कलसी गुरदासपुर से हार गए.

दलबदलू सुशील कुमार रिंकू (जो आप से भाजपा में शामिल हुए) और गुरप्रीत सिंह जीपी (जो कांग्रेस से आप में आए) जालंधर और फतेहगढ़ साहिब की अपनी-अपनी सीटें हार गए. मान के दोस्त और कॉमेडियन से नेता बने करमजीत अनमोल फरीदकोट से हार गए.

पंजाब के विशेषज्ञ कर्नल (सेवानिवृत्त) जे एस गिल ने कहा कि सीएम मान को यह समझना होगा कि हमेशा लोगों की वाहवाही बटोरने से ज़मीनी स्तर पर जनता संतुष्ट नहीं होती. उन्होंने कहा, ‘‘जब लोग भविष्य के लिए आपका विजन और ज़मीनी स्तर पर उससे मेल खाता प्रदर्शन चाहते हैं, तो सार्वजनिक रूप से विरोधियों को नीचा दिखाने से चुनावी फायदा नहीं होता.’’

गिल ने दिप्रिंट से कहा, ‘‘राजनीति तीन तरह की होती है- चुनावी, शासन और विधायी. आप अपने भाषणों में तीनों के लिए एक ही टेम्पलेट का इस्तेमाल नहीं कर सकते. सीएम को एक समझदार व्यक्ति होना चाहिए जो रंगला पंजाब के अपने विजन के साथ आबादी के हर वर्ग को साथ लेकर चले क्योंकि सीएम के तौर पर उनके विरोधी भी उनकी देखभाल में हैं. वे आप के नहीं बल्कि पंजाब के सीएम हैं.’’

मान के लिए राहत की बात यह रही कि उनकी पार्टी के छह उम्मीदवार दूसरे स्थान पर रहे – अमृतसर, बठिंडा, फरीदकोट, फतेहगढ़ साहिब, फिरोजपुर, पटियाला – और चार उम्मीदवार तीसरे स्थान पर रहे, गुरदासपुर, जालंधर, खडूर साहिब और लुधियाना सीटों पर.


यह भी पढ़ें: NDA के तीसरी बार शपथ की तैयारी के साथ ही नौकरशाही में होने वाली बड़ी नियुक्तियों पर टिकी सबकी निगाहें


कांग्रेस की बढ़त में AAP का नुकसान

कांग्रेस को पंजाब में बड़ी बढ़त मिली, उसने सात सीटें जीतीं और 2022 के विधानसभा चुनावों में अपना वोट शेयर लगभग 23 प्रतिशत से बढ़ाकर 26.30 प्रतिशत कर लिया, जो इस चुनाव में राज्य में किसी भी पार्टी के लिए सबसे अधिक है.

पार्टी के शीर्ष दावेदार चुनाव की कसौटी पर खरे उतरे. पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने जालंधर सीट 1.75 लाख से अधिक मतों के अंतर से जीती, पूर्व उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने गुरदासपुर सीट जीती, उन्होंने इसे भाजपा से 83,000 से अधिक मतों के अंतर से छीना. राज्य कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह राजा वडिंग ने लुधियाना से जीत हासिल की, उन्होंने कांग्रेस सांसद से भाजपा उम्मीदवार बने रवनीत सिंह बिट्टू को लगभग 21,000 मतों के अंतर से हराया.

अमृतसर से कांग्रेस के मौजूदा सांसद गुरजीत सिंह औजला ने अपनी सीट बरकरार रखी और फतेहगढ़ साहिब से मौजूदा सांसद अमर सिंह ने भी अपनी सीट बरकरार रखी. डॉ. धर्मवीर गांधी ने पटियाला में मौजूदा सांसद और भाजपा उम्मीदवार परनीत कौर को हराया, जबकि पूर्व अकाली शेर सिंह घुबाया ने फिरोजपुर सीट जीती. घुबाया 2019 में इस सीट पर शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल से हार गए थे.

हालांकि, पार्टी 2019 के लोकसभा चुनावों के अपने प्रदर्शन को दोहराने में सक्षम नहीं रही, जब उसने आठ सीटें जीती थीं और 40.12 प्रतिशत वोट हासिल किए थे. यह चार सीटों (आनंदपुर साहिब, होशियारपुर, खडूर साहिब, संगरूर) पर दूसरे स्थान पर और दो सीटों (बठिंडा और फरीदकोट) पर तीसरे स्थान पर रही.

BJP-SAD क्या मिलकर करेंगे बेहतर प्रदर्शन

शिरोमणि अकाली दल (शिअद) का ग्राफ इस चुनाव में और नीचे चला गया, पार्टी को केवल एक सीट, बठिंडा, पर जीत मिली. पूर्व केंद्रीय मंत्री और मौजूदा सांसद हरसिमरत कौर बादल ने इस सीट पर लगातार चौथी बार अपनी जीत दोहराई. उन्होंने लगभग 50,000 वोटों के अंतर से जीत हासिल की. वे शिअद प्रमुख सुखबीर बादल की पत्नी और वरिष्ठ अकाली नेता बिक्रम सिंह मजीठिया की बहन हैं.

2019 के लोकसभा चुनावों में अकाली दल ने दो सीटें जीती थीं और 27.45 प्रतिशत वोट शेयर हासिल किया था. 2022 के विधानसभा चुनावों में पार्टी का वोट शेयर घटकर 18.38 प्रतिशत रह गया. मंगलवार को पार्टी को केवल 13.42 प्रतिशत वोट मिले, जो कई दशकों में सबसे कम है, जो ग्रामीण सिख किसानों के पंथिक पार्टी से मोहभंग की ओर इशारा करता है.

अकाली दल पंजाब की अधिकांश सीटों पर चौथे स्थान पर रहा.

हालांकि, भाजपा ने राज्य में कोई सीट नहीं जीती, लेकिन इसका वोट शेयर 2019 के संसदीय चुनावों में 9.63 प्रतिशत और 2022 के विधानसभा चुनावों में 6.6 प्रतिशत से बढ़कर 18.56 प्रतिशत हो गया. मौजूदा वोट शेयर के हिसाब से पंजाब में भाजपा के पास अकाली दल से ज़्यादा वोटर हैं.

दोनों पार्टियों का संयुक्त वोट शेयर लगभग 33 प्रतिशत है. फिर से साथ आने की बातचीत विफल होने के बाद दोनों पार्टियों ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला किया.

भाजपा उम्मीदवारों के ज़्यादातर चुनाव प्रचार में किसानों के प्रदर्शन के कारण बाधा आई, जिन्होंने पटियाला के पास शंभू सीमा पर किसानों के आंदोलन के मद्देनज़र भाजपा उम्मीदवारों को अपने गांवों में घुसने नहीं देने का फैसला किया था.

भाजपा ने 2019 में अभिनेता से नेता बने सनी देओल द्वारा जीती गई गुरदासपुर सीट कांग्रेस से और नौकरशाह से नेता बने सोम प्रकाश द्वारा 2019 में जीती गई होशियारपुर सीट आप के राज कुमार छाबेवाल से हार गई.

पार्टी गुरदासपुर, जालंधर और लुधियाना में दूसरे स्थान पर रही और अमृतसर, आनंदपुर साहिब, फतेहगढ़ साहिब, फिरोजपुर, होशियारपुर और पटियाला में तीसरे स्थान पर रही.

(इस रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: BJP ने जहां मौजूदा सांसदों के टिकट काटे वहां 132 में से 95 और जहां दोबारा टिकट दिए वहां 3 में से 1 सीट…


 

share & View comments