scorecardresearch
Wednesday, 17 July, 2024
होमराजनीतिUP में AAP का युवाओं को हर साल 10 लाख नौकरी, हर महीने ₹5 हजार बेरोजगारी भत्ता देने का वादा

UP में AAP का युवाओं को हर साल 10 लाख नौकरी, हर महीने ₹5 हजार बेरोजगारी भत्ता देने का वादा

सिसोदिया ने कहा, 'हमनें जिस तरह से दिल्ली में सरकारी स्कूल ठीक करके दिखाए, बिजली फ्री करके दिखाया, अस्पताल ठीक करके दिखाए, लोगों को रोजगार देकर, उनका व्यापार बड़ा करके दिखाया वैसे उत्तर प्रदेश में भी करके दिखाएंगे, यह हमारा वादा है.'

Text Size:

नई दिल्ली: यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियां जोर लगा रही हैं. वहीं आम आदमी पार्टी ने बुधवार को राज्य के लिए आज बड़ा ऐलान करते हुए युवाओं को हर साल 10 लाख नौकरी और बेरोजगार युवाओं को हर महीने 5 हजार भत्ता देने का वादा किया है. इसके अलावा पार्टी ने नौकरी में यूपी के युवाओं को 80 फीसदी आरक्षण का वादा किया है.

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेसवार्ता में कहा, ‘उत्तर प्रदेश के युवाओं को मैं कहना चाहता हूं कि अपना एक-एक वोट देकर आम आदमी पार्टी की सरकार बनवाइए. आपके एक-एक वोट से ईमानदारी से रोजगार निकलेंगे और कोई पेपर लीक नहीं होगा.’

‘हमनें जिस तरह से दिल्ली में सरकारी स्कूल ठीक करके दिखाए, बिजली फ्री करके दिखाया, अस्पताल ठीक करके दिखाए, लोगों को रोजगार देकर, उनका व्यापार बड़ा करके दिखाया वैसे उत्तर प्रदेश में भी करके दिखाएंगे, यह हमारा वादा है.’

‘₹5000 का मासिक बेरोजगारी भत्ता 34 लाख युवाओं को तब तक मिलेगा जब तक कि इनको रोजगार नहीं मिल जाता है. आप सब यह जानते हैं कि केजरीवाल जी की राजनीति में बहुत सोच-समझ कर और कैलकुलेशन करके पूरी योजना बनाई जाती है.’

सिसोदिया ने कहा, ‘मेरी यूपी के लोगों से अपील है कि आम आदमी पार्टी को वोट देकर, अपने वोट का सही इस्तेमाल करके, आप अपने खुद के दम से ऐसी स्थिति ला सकते हैं कि कल आम आदमी पार्टी की सरकार बने तो 10 लाख रोजगार हर साल युवाओं को मिलेगा.’

उन्होंने कहा कि केजरीवाल जी की शिक्षा नीति और उनके गवर्नेंस की नीति की वजह से आज दिल्ली के स्कूलों के बच्चे नौकरी ढूंढ़ने वाले नहीं नौकरी देने वाले बन गए हैं. लेकिन यूपी में नौकरी ढूंढ़ने वाला युवा केवल लाठी खाने वाला बना हुआ है.

दिल्ली में अभी तक कोविड-19 के बाद बेरोजगारी की दर बढ़ी तो अरविंद केजरीवाल जी के छोटे से विजन ने, एक छोटे से प्रयास से 10 लाख युवाओं को कोविड-19 के बाद रोजगार प्रदान कर दिया.

उन्होंने कहा, ’14 लाख रोजगार उसमें क्रिएट हुए और 18000 कंपनियों ने रोजगार ऑफर किया. जिससे 10 लाख युवाओं को रोजगार मिल चुका हैं. दिल्ली में यह सब बदलाव कोविड-19 के तुरंत बाद की परिस्थितियों में हुए.’


यह भी पढ़ें: अखिलेश के चुनाव लड़ने के न्यौते पर बोले राकेश टिकैत- ‘हम गैर-राजनीतिक थे, गैर-राजनीतिक रहेंगे’


योगी सरकार पेपर लीक सरकार बन गई है

मनीष सिसोदिया ने कहा, ‘एनडीए का पेपर, एसएससी का पेपर उत्तर प्रदेश में लीक हुआ और हमने देखा कि नवंबर में यूपी टीईटी का पेपर लीक हो गया. जब बच्चे पेपर दे रहे थे तो उन्हें कहा गया कि आप पेपर मत दो आपका पेपर तो लीक हो गया. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पेपर लीक सरकार बन गई है.’

‘अगस्त 2018 में स्वास्थ्य विभाग का प्रोन्नति का पेपर, सितंबर 2018 में नलकूप ऑपरेटर का पेपर, जुलाई 2020 में 69000 शिक्षक भर्ती का, अगस्त 2021 में बीएड की प्रवेश परीक्षा का, अगस्त 2021 में पीईटी का पेपर लीक हो गया.’

‘अक्टूबर 2021 में सहायता प्राप्त शिक्षक और प्रधानाचार्य का पेपर लीक हो गया. अगस्त 2021 में यूपी टीजीटी का, नीट का पेपर उत्तर प्रदेश में लीक हुआ.’

उन्होंने कहा, ‘रोजगार की आस लगाए हुए युवा मेहनत करता है और सोचता है कि पेपर देगा, पास करेगा, उसके बाद में उसकी जॉब लगेगी, लेकिन अंत में जब वह पेपर देने जाता है तो पता चलता है कि पेपर लीक हो गया.’

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री ने कहा, ‘अगस्त 2017 में सब इंस्पेक्टर की परीक्षा का पेपर लीक, फरवरी 2018 में यूपीपीसीएल की परीक्षा का पेपर लीक, अप्रैल 2018 में पुलिस की परीक्षा का पेपर लीक कर दिया, जुलाई 2018 में फिर से एक रिकॉर्ड बनाते हुए अधिनस्थ सेवा चयन बोर्ड का पेपर लीक हो गया.’

सिसोदिया ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश का चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आ रहा है, लोगों का योगी जी की सरकार से मोहभंग हो रहा है. योगी जी की सरकार जो 70 लाख रोजगार देकर UP को नंबर वन बनाने का वादा करके आई थी, उसने UP में युवाओं के साथ रोजगार के नाम पर बहुत ही बड़ा मजाक किया है.’

‘7000000 रोजगार देने का वादा इन्होंने किया था लेकिन अगर देखें तो पूरा प्रदेश रोजगार देने में तो नंबर वन नहीं है. लेकिन जब भी रोजगार के लिए कोई परीक्षा होती है, तो परीक्षा का पेपर लीक करने में योगी राज नंबर वन है.’

उन्होंने कहा, ‘पत्रकार बंधुओं ने जगह-जगह मीडिया रिपोर्टों में यह दिखाया है कि रोजगार मांगने वाले नौजवानों पर योगी सरकार द्वारा किस तरह से लाठियां भांजी जाती हैं. यह कोई एक जिले या हिस्से का मामला नहीं है बल्कि यह पूरे उत्तर प्रदेश के युवाओं के ऊपर रोजगार की जगह रोजगार मांगने पर लाठियां बरसाई जाती हैं.’

मनीष ने कहा, ‘उत्तर प्रदेश के युवाओं को मैं कहना चाहता हूं कि अपना एक-एक वोट देकर आम आदमी पार्टी की सरकार बनवाइए. आपके एक-एक वोट से ईमानदारी से रोजगार निकलेंगे और कोई पेपर लीक नहीं होगा.’

‘उत्तर प्रदेश में जिस तरह से आम आदमी पार्टी का ग्राफ बढ़ रहा है, कार्यकर्ताओं की मेहनत बढ़ गई है, उसको देखते हुए आम आदमी पार्टी ने पहले बिजली और किसानों के बारे में अनाउंस कर दिया है.’

संजय सिंह ने बताया आएगा कितना खर्च

वहीं यूपी के प्रभारी आप के नेता संजय सिंह ने कहा, ‘एक बहुत बड़ा ऐलान उत्तर प्रदेश के लिए आम आदमी पार्टी की ओर से हुआ है और मनीष सिसोदिया जी ने किया है.’ ‘अरविंद केजरीवाल जी की पार्टी जुमला नहीं बोलती बल्कि काम करके ही दिखाती है’

सिंह ने कहा, ‘मनीष जी ने बताया कि 34 लाख बेरोजगार एंप्लॉयमेंट एक्सचेंज में पंजीकृत हैं. उन सभी बेरोजगारों को रोजगार देने की, यानी 10 लाख रोजगार प्रतिवर्ष, 5 साल में 50 लाख रोजगार देने की योजना और दूसरा ₹5000 प्रति माह बेरोजगारी भत्ता.’

‘कुल मिलाकर 1700 करोड़ों रुपए प्रतिमाह का खर्चा है. साल का 20400 करोड़ों रुपए खर्च आएगा. 550 लाख करोड़ के बजट से 20400 करोड रुपए निकालना कोई मुश्किल का काम नहीं है. और यह सपना आम आदमी पार्टी ही पूरा करके दिखाएगी.

वहीं आप की तिरंगा यात्रा को लेकर उन्होंने योगी सरकार पर हमला करते हुए कहा, ‘कितने मुक़दमे लिखवाओगे आदित्यनाथ जी? चाहे जीतने FIR लिखवा लो तिरंगा यात्रा हज़ार बार निकलेगी. भाजपा और RSS तिरंगा विरोधी है. RSS ने 52 साल तक नागपुर के मुख्यालय पर तिरंगा झण्डा नही फहराया.’

इससे पहले सितंबर में आम आदमी पार्टी ने कहा था कि आम आदमी पार्टी उत्तर प्रदेश के कुल बजट का 25 प्रतिशत शिक्षा पर खर्च करेगी.


यह भी पढ़ें: ‘BCCI से आराम करने को नहीं कहा, फैलाई जा रहीं गलत खबरें’, रोहित से कोई समस्या नहीं: विराट कोहली


 

share & View comments