Monday, 27 June, 2022
होमलास्ट लाफजब दिल्ली पुलिस को येति मिला और 'बहुत ज्यादा वाट्सऐप' की घटनाएं 'हलाल विवाद' में नई ऊंचाई पर पहुंच गई

जब दिल्ली पुलिस को येति मिला और ‘बहुत ज्यादा वाट्सऐप’ की घटनाएं ‘हलाल विवाद’ में नई ऊंचाई पर पहुंच गई

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.

Text Size:

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चयनित कार्टून पहले अन्य प्रकाशनों में प्रकाशित किए जा चुके हैं. जैसे- प्रिंट मीडिया, ऑनलाइन या फिर सोशल मीडिया पर.

आज के फीचर कार्टून में संदीप अध्वर्यु हिमालयन ‘यति’ के मिथक का इस्तेमाल दिल्ली पुलिस से सवाल करने के लिए कर रहे हैं कि यति नरसिंहानंद सरस्वती के खिलाफ अभद्र भाषा के लिए कोई कार्रवाई क्यों नहीं की गई. गौरतलब है कि राजधानी के बाहरी इलाके में एक महापंचायत में हिंदुओं को मुसलमानों के खिलाफ हथियार उठाने का आह्वान किया गया.

Satish Acharya | Twitter/@satishacharya
सतीश आचार्य | Twitter/@satishacharya

सतीश आचार्य हलाल मीट को लेकर हालिया विवाद पर टिप्पणी कर रहे हैं जो हिन्दुत्व ग्रुप ने शुरू किया था जिसमें इस्लामिक तौर तरीकों से जानवरों को मारा जाता है.

Kirtish Bhatt | BBC News Hindi
कीर्तिश भट्ट | BBC News Hindi

कीर्तिश भट्ट ने नवरात्रि के नौ दिवसीय हिंदू उत्सव के दौरान मांस की दुकानों पर रोक लगाने के आह्वान पर तंज कस रहे हैं जिसे दक्षिण और पूर्वी दिल्ली के महापौरों ने बुलाया है. कार्टूनिस्ट एक जोड़े को आभारी दिखाता है कि कोई भी धर्म यह नहीं बताता कि क्या खाना चाहिए, भले ही कई लोग बता रहे हों कि क्या नहीं खाना है.

Alok Nirantar | Twitter/@caricatured
आलोक निरंतर | Twitter/@caricatured

आलोक निरंतर एक पुनर्विकास घोटाले में महाराष्ट्र के सांसद संजय राउत की संपत्ति को संलग्न करने वाले प्रवर्तन निदेशालय को संदर्भित करता है. राउत बीजेपी का विरोध करने वाले दलों के नेताओं के खिलाफ केंद्रीय एजेंसियों के खिलाफ मुखर रहे हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

Sajith Kumar | Deccan Herald
साजिथ कुमार | Deccan Herald

साजिथ कुमार का सुझाव है कि श्रीलंका में आर्थिक संकट ‘मेड इन चाइना’ है.

(इन कार्टून्स को अंग्रेज़ी में देखने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments