scorecardresearch
Wednesday, 24 July, 2024
होमदेशपश्चिम बंगाल ट्रेन हादसा: 15 की मौत, 60 लोग घायल, परिजनों को मिलेगी दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि

पश्चिम बंगाल ट्रेन हादसा: 15 की मौत, 60 लोग घायल, परिजनों को मिलेगी दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राहत कार्यों का जायजा लेने के लिए सोमवार को न्यू जलपाईगुड़ी में रेल दुर्घटना स्थल का दौरा करेंगी. प्रधानमंत्री ने घोषणा की है कि दुर्घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी, जबकि घायलों को 50,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग जिले में सोमवार को सुबह एक मालगाड़ी की टक्कर लगने के कारण सियालदह जाने वाली कंचनजंगा एक्सप्रेस के पीछे के तीन डिब्बे पटरी से उतर गए, जिससे कम से कम 15 यात्री मारे गए और 60 अन्य घायल हो गए.

अधिकारियों ने बताया कि मरने वालों की संख्या बढ़ सकती है, कई लोग अभी भी डिब्बों में अंदर फंसे हुए हैं. राज्य और केंद्र की विभिन्न एजेंसियां स्थानीय लोगों के साथ मिलकर राहत और बचाव कार्य में युद्धस्तर पर लगी हैं.

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मृतकों में मालगाड़ी का पायलट और को-पायलट भी शामिल है.

पुलिस ने बताया कि दुर्घटना में घायल हुए लोगों को उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल ले जाया जा रहा है.

अधिकारी ने बताया कि उत्तर बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन से लगभग 30 किलोमीटर दूर रंगापानी स्टेशन के पास ही मालगाड़ी के इंजन द्वारा पीछे से टक्कर मारे जाने के कारण कंचनजंगा एक्सप्रेस ट्रेन के तीन डब्बे पटरी से उतर गए.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राहत कार्यों का जायजा लेने के लिए सोमवार को न्यू जलपाईगुड़ी में रेल दुर्घटना स्थल का दौरा करेंगी.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर पोस्ट में कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में रेल दुर्घटना दुखद है. जिन लोगों ने इस हादसे में अपने प्रियजनों को खो दिया है, उनके प्रति मेरी संवेदना है.’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘मैं प्रार्थना करता हूं कि हादसे में घायल हुए लोग जल्द से जल्द ठीक हो जाएं. मैंने अधिकारियों से बात की और स्थिति का जायजा लिया. प्रभावितों का सहायता के लिए बचाव अभियान जारी है. रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव भी दुर्घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं.’’

प्रधानमंत्री ने यह भी घोषणा की कि इस दुर्घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी, जबकि घायलों को 50,000 रुपये प्रदान किए जाएंगे.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को पश्चिम बंगाल में हुए ट्रेन हादसे में लोगों की मौत पर दुख जताया और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.

शाह ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर हिंदी और बांग्ला में लिखा, ‘‘पश्चिम बंगाल के न्यू जलपाईगुड़ी में हुआ रेल हादसा बहुत दुःखद है. इस दुर्भाग्यपूर्ण हादसे में जिन लोगों ने अपने परिजनों को खोया है, उनके प्रति संवेदनाएं व्यक्त करता हूं और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं.’’

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव रेल दुर्घटना के बाद राहत और बचाव कार्यों का जायजा लेने के लिए सोमवार को घटनास्थल के लिए रवाना हो गए हैं.

रेल अधिकारियों से प्राप्त प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, यात्री ट्रेन पटरी पर खड़ी थी, तभी मालगाड़ी ने पीछे से उसे टक्कर मार दी. भीषण टक्कर के कारण कंचनजंगा एक्सप्रेस के दो पिछले डिब्बे तुरंत ही पटरी से उतर गए, जबकि एक अन्य डिब्बा मालगाड़ी के इंजन के ऊपर ही लटक गया.

अधिकारियों ने बताया कि इलाके में खराब मौसम के कारण बचाव कार्य में बाधा आ रही है.

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोशल मीडिया मंच एक्स पर किए पोस्ट ने कहा, ‘‘अभी-अभी दार्जिलिंग जिले के फांसीदेवा इलाके में एक दुखद रेल दुर्घटना होने के बारे में जानकर स्तब्ध हूं. विस्तृत जानकारी का इंतज़ार है, बताया जाता है कि कंचनजंगा एक्सप्रेस को एक मालगाड़ी ने टक्कर मार दी है.’’

उन्होंने आगे लिखा, ‘‘जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, डॉक्टर, एंबुलेंस और आपदा टीमों को बचाव, राहत और चिकित्सा सहायता के लिए घटनास्थल पर भेज दिया गया है. युद्धस्तर पर कार्रवाई शुरू कर दी गई है.’’

इस दुर्घटना के कारण उत्तर बंगाल और देश के पूर्वोत्तर भाग से लंबी दूरी की रेल सेवाएं प्रभावित हुईं हैं.

राज्य सरकार के अधिकारियों ने बताया कि प्रभावित यात्रियों के परिवहन के लिए आपातकालीन आधार पर क्षेत्र से अतिरिक्त बस सेवाएं शुरू की जा रही हैं.

शुरुआती खबरों से पता चला है कि मालगाड़ी के लोको पायलट ने शायद सिग्नल को पार कर लिया होगा. हालांकि, इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है कि सिग्नलिंग सिस्टम में कोई समस्या थी या नहीं या इस बात का कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया गया है कि एक ही ट्रैक पर दो ट्रेनें एक-दूसरे के इतने करीब कैसे आ गईं.

दार्जिलिंग से भाजपा सांसद राजू बिस्ता उन नेताओं में शामिल हैं जो बचाव कार्यों का निरीक्षण करने के लिए तुरंत घटनास्थल पर पहुंचे.

कंचनजंगा एक्सप्रेस के कोच संख्या एस6 में सवार अगरतला के एक यात्री ने बताया कि उसे अचानक तेज़ झटका महसूस हुआ और भीषण आवाज के साथ डिब्बा रुक गया. उन्होंने यह भी दावा किया कि राहत और बचाव कार्यों में देरी हुई.

एक टेलिविजन चैनल से बात करते हुए यात्री ने कहा, ‘‘मेरी पत्नी, बच्चा और मैं किसी तरह क्षतिग्रस्त कोच से बाहर निकले. हम अभी भी परेशान ही हैं…बचाव कार्य भी काफी देर से शुरू हुआ.’’


यह भी पढ़ें: अग्निपथ ने तोड़ा सैनिक बनने का सपना, यूक्रेन युद्ध में मारे गए भारतीय की पत्नी अब शव के इंतज़ार में


 

share & View comments