Thursday, 26 May, 2022
होमदेशअर्थजगतदिल्ली की अर्थव्यवस्था में 2020-21 में 5.68% की गिरावट का अनुमान

दिल्ली की अर्थव्यवस्था में 2020-21 में 5.68% की गिरावट का अनुमान

समीक्षा के अनुसार चालू वित्त वर्ष में प्रति व्यक्ति आय घटकर 3.54 लाख रुपये रह गयी जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 में 3.76 लाख करोड़ रुपये थी.

Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली की अर्थव्यवस्था में कोविड-19 महामारी के कारण वास्तविक आधार पर 2020-21 में 5.68 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है. वित्त वर्ष 2020-21 की आर्थिक समीक्षा में यह कहा गया है.

उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा में 2020-21 की आर्थिक समीक्षा पेश की.

हालांकि अग्रिम अनुमान में 2020-21 में दिल्ली का सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) चालू मूल्य पर 7,98,310 करोड़ रुपये रहने का अनुमान है. यह पिछले साल के मुकाबले 3.92 प्रतिशत गिरावट को बताता है.

चालू मूल्य पर जीएसडीपी में पिछले छह साल में करीब 45 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. वित्त वर्ष 2015-16 में यह 5,50,804 करोड़ रुपये था जो 2020-21 में 7,98,310 करोड़ रुपये पहुंच गया.

समीक्षा के अनुसार चालू वित्त वर्ष में प्रति व्यक्ति आय घटकर 3.54 लाख रुपये रह गयी जो इससे पूर्व वित्त वर्ष 2019-20 में 3.76 लाख करोड़ रुपये थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

रिपोर्ट के अनुसार वास्तविक आधार पर दिल्ली के जीएसडीपी में 5.68 प्रतिशत की गिरावट का अनुमान है जबकि राष्ट्रीय स्तर पर आर्थिक गिरावट 8 प्रतिशत रहने कहा अनुमान है.

सिसोदिया ने विधानसभा में कहा कि महामारी से कुछ महीनों तक सरकार की गतिविधियां पूरी तरह ठप रही. इससे व्यापार और राजस्व में कमी आयी. इससे वित्तीय बाधाएं खड़ी हुई हैं.

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रति व्यक्ति आय (वास्तविक आधार पर) के हिसाब से दिल्ली दूसरे स्थान पर है. चालू मूल्य पर 2020-21 में यह 3,54,004 रुपये रहा जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह 1,27,768 रुपये है.


यह भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस को एक और झटका, पांच वर्तमान विधायक भाजपा में हुए शामिल


 

share & View comments