बिहार की ज्योति कुमारी जिसने गुरुग्राम से लेकर दरभंगा तक करीब 1200 किलोमीटर साइकिल से यात्रा की.
Text Size:

नई दिल्ली: लॉकडाउन के दौरान अपने पिता को साइकिल पर बैठाकर गुरुग्राम से दरभंगा तक लगभग 1,200 किलोमीटर का सफर तय करने वाली ज्योति कुमारी की मदद के लिए कई हाथ आगे आये हैं. इस फेहरिस्त में सबसे नया नाम है सुपर 30 के आनंद कुमार का जिन्होंने ज्योति को मुफ्त आईआईटी कोचिंग की सुविधा देने की बात कही है.

कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर पोस्ट किया कि उनके भाई ज्योति के परिवार से मिले थे और कहा की वो चाहे तो सुपर 30 परिवार में उसका स्वागत है. उन्होंने उसकी इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए सभी खर्चों की व्यवस्था करने का भी वादा किया.

राजद नेता तेजस्वी यादव और बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने रविवार को एक वीडियो कॉल के माध्यम से लड़की के परिवार से बात की. राबड़ी देवी ने ज्योति की शिक्षा, उनकी शादी को प्रायोजित करने की पेशकश की और उसके पिता को नौकरी देने का भी वादा किया.

लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान ने भी ज्योति की शिक्षा का सारा खर्च उठाने की पेशकश की है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने कहा कि वह ज्योति को भारत का ‘स्वास्थ्य ब्रांड एम्बेसडर‘ बनाने पर विचार कर रहे हैं.

उपभोक्ता मामलों, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री रामविलास पासवान ने ज्योति को आधुनिक श्रवण कुमार कहा था और खेल मंत्री किरेन रिजिजू से उसे छात्रवृत्ति और प्रशिक्षण मुहैया करने की अपील की.

ट्वीट का जवाब देते हुए, रिजिजू ने कहा कि ज्योति को साइकलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया के साथ ट्रायल के बाद दिल्ली की नेशनल साइकलिंग अकादमी में एक प्रशिक्षु के रूप में चुना जाएगा.

कानून और न्याय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी रिजिजू से लड़की को पूरा समर्थन देने की अपील की.

हालांकि, ‘साइकिल गर्ल’ ने परीक्षण के लिए तुरंत आने से इनकार कर दिया, क्योंकि वह अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करना चाहती है. उसने कहा कि लंबी यात्रा के बाद वह शारीरिक रूप से थक चुकी है.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी ज्योति को उसके साहसी पराक्रम के लिए 1 लाख रुपये की पेशकश की है.

‘शेरदिल लड़की’

ज्योति ने घर पहुंचने के लिए सात दिनों तक साइकिल चलाई थी, जिसमें उसने अपने घर तक 1,200 किलोमीटर की दूरी तय की. 22 मई को, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की बेटी इवांका ट्रम्प ने ज्योति के धीरज और अपने पिता के प्रति प्रेम की प्रशंसा करते हुए एक ट्ववीट पोस्ट किया.

न्यूयॉर्क टाइम्स ने ज्योति की शानदार यात्रा पर भी रिपोर्ट की, जिसमें उसे एक ‘शेरदिल’ लड़की कहा गया.

हालांकि, सोशल मीडिया पर सबकी प्रतिक्रियाएं एक जैसी नहीं रही. कई लोगों ने ज्योति की इस स्थिति के लिए सरकार की नाकामी को दोष दिया जिसकी वजह से उसे इतने दूर अपने घर साइकिल चला कर जाना पड़ा.

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

1 Comment Share Your Views

1 टिप्पणी

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here