Monday, 6 December, 2021
होमदेशविज्ञान-टेक्नॉलॉजी'तियान्हे' स्पेस स्टेशन के लिए चीन का पहला क्रू रवाना, 3 महीने तक अंतरिक्ष में रहेंगे एस्ट्रोनॉट्स

‘तियान्हे’ स्पेस स्टेशन के लिए चीन का पहला क्रू रवाना, 3 महीने तक अंतरिक्ष में रहेंगे एस्ट्रोनॉट्स

ये अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष यान ‘शेनझोउ-12’ में सवार हैं, जिसे उत्तरी-पश्चिम जियुक्वान प्रक्षेपण केन्द्र से लॉन्ग मार्च-2 एफ रॉकेट के जरिए प्रक्षेपित किया गया.

Text Size:

बीजिंगः चीन ने तीन अंतरिक्ष यात्रियों को बृहस्पतिवार को अपने निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन के लिए रवाना कर दिया, जहां वे तीन महीने तक उसके कोर मॉड्यूल ‘तियान्हे’ में रहेंगे. पांच साल में चीन का यह पहला मिशन है जिसमें उसने इंसान को अंतरिक्ष में भेजा है.

‘तियान्हे’ चीन द्वारा भेजा गया तीसरा और सबसे बड़ा अंतरिक्ष स्टेशन है. इसके कोर मॉड्यूल को 29 अप्रैल को कक्षा में प्रक्षेपित किया गया था.

ये अंतरिक्ष यात्री अंतरिक्ष यान ‘शेनझोउ-12’ में सवार हैं, जिसे उत्तरी-पश्चिम जियुक्वान प्रक्षेपण केन्द्र से लॉन्ग मार्च-2 एफ रॉकेट के जरिए प्रक्षेपित किया गया. ये तीन यात्री निए हैशेंग, लियु बोमिंग और तांग होंग्बो हैं. प्रक्षेपण के कुछ मिनट बाद ही इसे सफल घोषित कर दिया गया.

‘चाइना मैन्ड स्पेस एजेंसी’ (सीएमएसए) के अनुसार, चीन ने सातवीं बार अंतरिक्ष में अपने यात्री भेजे हैं, लेकिन अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर जाने वाला यह पहला चीनी मिशन है. चीन ने करीब पांच साल पहले 2016 में आखिरी बार किसी इंसान को अंतरिक्ष में भेजा था. 2016 में दो पुरुष अंतरिक्ष यात्री ‘शेनझोउ-11’ में अंतरिक्ष गए थे और 33 दिन वहां रहे थे. आज गए तीन सदस्यीय दल के उस रिकॉर्ड को तोड़ने की उम्मीद है.

ये अंतरिक्ष यात्री तीन महीने तक अंतरिक्ष में रहेंगे और इस दौरान वे मरम्मत एवं देखरेख जैसे काम करेंगे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यह अंतरिक्ष स्टेशन आकाश से चीन के लिए दुनिया पर नजर रखेगा और पुराने होते अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (आईएसएस) से प्रतिद्वंद्विता करेगा. आईएसएस नासा (अमेरिका), रोस्कोमोस (रूस), जाक्सा (जापान), ईएसए (यूरोप) और सीएसए (कनाडा) की परियोजना है.


यह भी पढ़ेंः चीन ने अपने अंतरिक्ष रॉकेट के मलबे को लेकर साधी चुप्पी, किसी बस्ती में गिरा तो होगा बड़ा नुकसान


 

share & View comments