प्रतीकात्मक तस्वीर : दिप्रिंट.इन /कृष्णकांत
Text Size:
  • 30
    Shares

प्रयागराज: तीर्थराज प्रयाग में इस बार होने वाले अर्धकुंभ को उत्तर प्रदेश सरकार ने यूं ही पूर्ण कुंभ घोषित नहीं किया है. हिंदुओं की संस्था का सबसे बड़ा कुंभ इस बार राज्य की योगी आदित्यनाथ सरकार से लेकर केंद्र की मोदी सरकार तक के एजेंडे में सबसे ऊपर है.   
 
शनिवार को 71 देशों के राजदूतों समेत 131 देशों के राजनयिक केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह की अगुवाई में कुंभ की भव्य तैयारियां देखने प्रयागराज पहुंचे थे. इसके अगले ही दिन खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को प्रयागराज पहुंचेंगे और करीब 5 घंटे से अधिक समय वहां बिताएंगे. इस दौरान वे करीब 41 अरब के कुंभ से जुड़े कार्यों का लोकार्पण करेंगे. 
 
इसके बाद झूसी क्षेत्र के अंदावा में संत निरंकारी आश्रम के मैदान में एक जनसभा को संबोधित करेंगे. 
सूचना विभाग की तरफ से जारी कार्यक्रम के मुताबिक, प्रधानमंत्री सुबह अरैल क्षेत्र में डीपीएस स्थित हेलीपैड उतरेंगे. वहां से वे 12.45 पर संगम पहुंचेंगे. 
 
संगम पर प्रधानमंत्री गंगा पूजन करेंगे, संतों से मुलाकात करेंगे. इसके बाद स्वच्छ कुंभ के माॅडल का प्रदर्शन किया जायेगा. उसके बाद प्रधानमंत्री मेला कार्यालय में एकीकृत कंट्रोल एवं कमांड सेंटर का उद्घाटन करेंगे. 
 
उद्घाटन के बाद इलाहाबाद किले में मौजूद अक्षय वट का दर्शन करने का बाद मोदी सड़क मार्ग से पुनः डीपीएस स्थित हेलीपैड जायेंगे. जहां से लगभग 2ः45 बजे अंदावा के लिए हवाई मार्ग से प्रस्थान करेंगे. अंदावा स्थित संत निरंकारी आश्रम मैदान में प्रधानमंत्री जी की जनसभा होगी. जनसभा के प्रधानमंत्री सभा स्थल पर कुम्भ के कार्यों पर आधारित तथा पेंट माई सिटी पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन करेंगे. इस दौरान ‘मेेकिंग आॅफ कुंभ’ विषय पर एक डाक्यूमेंट्री भी दिखाई जाएगी. इसके बाद प्रधानमंत्री के हाथों  विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास होगा. इसके बाद  प्रधानमंत्री जनसभा को सम्बोधित करेंगे. लगभग 4ः30 बजे मोदी हवाई मार्ग से बमरौली एयरपोर्ट पहुंचेंगे जहां नवनिर्मित सिविल इंक्लेव का लोकार्पण करेंगे. लगभग 05ः00 बजे तक प्रधानमंत्री वापस दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे.
 
ऐसा कम ही होता है कि प्रधानमंत्री किसी एक शहर में इतना वक़्त दें. लेकिन 15 जनवरी से शुरू हो रहे प्रयागराज कुंभ की अंतरराष्ट्रीय ब्रांडिंग में जुटी सरकार जनता को यह संदेश देने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती कि इस बार हिंदुओं की आस्था का यह सबसे बड़ा संगम सरकार की सियासी आस्था के केंद्र में सबसे ऊपर है. 
 
प्रधानमंत्री के प्रयागराज में जनसभा और कार्यक्रम के एक दिन पहले शनिवार को 71 देशों के राजदूतों समेत 131 देशों के राजनयिक कुंभ की तैयारियां देखने प्रयागराज पहुंचे. सरकार ने 192 देशों के राजनयिकों को आमंत्रित किया था. हालांकि इस आयोजन में कुल 131 देशों के प्रतिनिधि शामिल हुए.
 
केंद्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह की अगुवाई में राजनयिकों का प्रतिनिधि मंडल शनिवार को प्रयागराज के बमरौली हवाई अड्डे पहुंचा, जहां यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सभी का स्वागत किया. 
 
बमरौली एयर पोर्ट पर राजनयिकों के स्वागत में सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए गए. इसके बाद विशेष सुरक्षा के बीच सभी को सड़क मार्ग से गंगा यमुना के संगम तट पर ले जाया गया. रास्ते में जगह-जगह स्कूली बच्चों ने पुष्पवर्षा कर राजनयिकों का शानदार स्वागत किया. 
 
संगम तट पर सभी राजनयिकों को प्रजेंटेशन और प्रदर्शनी के जरिये दिखाया गया कि कैसे संगम की दूर दूर तक फैली रेत में एक अस्थायी शहर बसाया जाता है. उन्हें कुंभ आयोजन की विभिन्न तैयारियों के बारे में अवगत कराया गया. 
 
सरकार का मकसद है कि कुंभ की तैयारियां देखने वाले सभी राजनयिक अपने-अपने देश के नागरिकों को एडवाइजरी जारी करेंगे और उन्हें कुंभ आने के लिए प्रेरित करेंगे.
 
संगम तट पर भव्य स्वागत के बाद राजनयिकों को कस्तूरबा जलयान के जरिये गंगा पार अरैल घाट की तरफ ले जाया गया. यहां पर सभी देशों के झंडे लगाए गए थे. सभी राजनयिकों ने एक साथ अपने अपने देश का झंडा फहराया. 
 
 कुंभ के प्रचार-प्रसार के लिए देश भर में पोस्टर लगाए गए हैं. इसके लिए ‘दिल्ली चलो’ की तर्ज पर ‘चलो कुंभ चलें’ नारा भी दिया है. 
 
जनरल वीके सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की परिकल्पना है कि विदेशी राजनयिकों को प्रयागराज में आयोजित होने वाले कुंभ की तैयारियों से अवगत कराया जाए. इससे वे सभी अपने-अपने देशों में कुंभ में प्रचार-प्रसार कर सकेंगे ताकि ज़्यादा से ज़्यादा लोग यहां आ सकें. 
 
उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि तमाम देशों के राजनयिकों के लिए यह बेहद अनूठा अनुभव रहा. वे सभी कुंभ की तैयारियां देखकर खुश हैं. 
 
प्रयागराज में कुंभ मेला की शुरुआत 15 जनवरी से हो रही है। यह मार्च के पहले हफ्ते तक चलेगा. सब देशों के राजनयिक झंडारोहण के पश्चात वापस दिल्ली लौट गए. 
 

व्यापारिक संगठनों से पहुंचने की अपील

 
उत्तर प्रदेश के स्टाम्प एवं नागरिक उड्डयन मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे को लेकर शनिवार को प्रयागराज, भदोही और फूलपुर लोकसभा के समस्त व्यापारिक संगठन व्यापार मंडल और बाजार प्रमुखों के संग बैठक की.
 
इस बैठक में नन्दी ने मोदी जी की जनसभा को सफल बनाने के लिए सभी कार्यकर्ताओं को वहां पर पहुचने की अपील की. सभी ने मंत्री को अस्वाशत किया की बड़ी संख्या में लोग जनसभा में शिरकत करेंगे, जिससे सरकार की उपलब्धियां जन-जन तक पहुंच सकें.  
 
भाजपा के सभी सभासदों से भी कहा गया है कि प्रधानमंत्री की जनसभा में अधिक से अधिक लोग पहुंचें. 
प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में उनके साथ राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के अलावा उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री सुरेश खन्ना, रीता बहुगुणा जोशी, सिद्धार्थ नाथ सिंह, नन्द गोपाल गुप्ता नन्दी भी मौजूद होंगे.

  • 30
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here