Thursday, 30 June, 2022
होमदेशPM मोदी ने टोक्यो में कहा- 'इंडो पैसिफिक इकोनॉमिक मॉडल के निर्माण के लिए आप सभी के साथ काम करेंगे'

PM मोदी ने टोक्यो में कहा- ‘इंडो पैसिफिक इकोनॉमिक मॉडल के निर्माण के लिए आप सभी के साथ काम करेंगे’

अमेरिका राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि इंडो-पैसिफिक दुनिया की आधी आबादी को कवर करता है और इसका जीडीपी उत्पाद का 60 प्रतिशत से अधिक है.

Text Size:

नई दिल्ली: सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन, जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा और अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने टोक्यो में इंडो-पैसिफिक इकोनॉमिक फ्रेमवर्क इवेंट में हिस्सा लिया.

इस दौरान पीएम मोदी ने अन्य देशों को भरोसा का दिलाया कि भारत एक समावेशी लचीला ‘इंडो पैसिफिक इकोनॉमिक मॉडल’ के निर्माण के लिए आप सभी के साथ काम करेगा.

पीएम ने कहा, ‘भारत एक समावेशी लचीला ‘इंडो पैसिफिक इकोनॉमिक मॉडल’ के निर्माण के लिए आप सभी के साथ काम करेगा. हमारे बीच भरोसा, पारदर्शिता, समयबद्धता होनी चाहिए. यह इंडो पैसिफिक क्षेत्र में विकास, शांति और समृद्धि का मार्ग प्रशस्त करेगा.’

वहीं, अमेरिका राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि इंडो-पैसिफिक दुनिया की आधी आबादी को कवर करता है और इसका जीडीपी उत्पाद का 60 प्रतिशत से अधिक है.

उन्होंने कहा आगे कहा कि आज यहां प्रतिनिधित्व करने वाले और भविष्य में इस ढांचे में शामिल होने वाले राष्ट्र, एक आर्थिक दृष्टि की दिशा में काम करने की शुरुआत कर रहे हैं जिससे हमारे लोगों को फायदा होगा.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

बाइन ने कहा, ‘एक इंडो-पैसिफिक की दृष्टि स्वतंत्र, खुली और सुरक्षित होने के साथ-साथ लचीली हो, जहां आर्थिक विकास टिकाऊ और समावेशी हो. हम 21वीं सदी की अर्थव्यवस्था के लिए नए नियम लिख रहे हैं, हम अपने देश की सभी अर्थव्यवस्थाओं को तेजी से और निष्पक्ष रूप से विकसित करने जा रहे हैं.’


यह भी पढ़ेंः फिलहाल ज्ञानवापी को भूलकर वाराणसी को 2006 के बमकांड मामले में तो इंसाफ दिलाइए


‘भारत में उभरती प्रौद्योगिकी’

उधर, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को जापान के टोक्यो में एनईसी के चेयरमैन नोबुहिरो एंडो से मुलाकात की.

पीएम मोदी की यह मुलाकात उनकी दो दिवसीय जापान दौरे के बीच हुई है जिसमें उन्होंने भारत में टेलीकम्यूनिकेशन सेक्टर में जापानी कंपनीयों की भूमिका के बारे में चर्चा की.

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘पीएम मोदी ने भारत में टेलीकम्यूनिकेशन सेक्टर में एनईसी की भूमिका को सराहा खासतौर से चेन्नई-अंडमान और निकोबार आईलैंड (CANI), कोच्चि-लक्षद्वीप आईलैंड (KLI) में ओएफसी प्रोजेक्ट की सराहना की. उन्होंने प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) के तहत निवेश के अवसरों पर भी रोशनी डाली.’

विदेश मंत्रालय के अनुसार, उन्होंने औद्योगिक विकास, टेक्सेशन और श्रम के क्षेत्रों समेत भारत में व्यापार करना आसान बनाने के लिए किए जा रहे कई सुधारों पर चर्चा की. उन्होंने नई और उभरती प्रौद्योगिकियों में भारत में अवसरों पर भी चर्चा की.

पीएम मोदी ने वहां सुजुकी मोटर कॉरपोरेशन के सलाहकार ओसामु सुजुकी से भी मुलाकात की और भारत में निवेश, नवाचार, इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण और पुनर्चक्रण केंद्रों को लेकर अवसरों पर चर्चा की. साथ ही उन्होंने जापानी कपड़ों के ब्रांड यूनीक्लो के सीईओ से भी भेंट की.

मोदी ने कहा कि आकर्षक प्रोत्साहन, साहसिक सुधार, महत्वाकांक्षी योजनाएं और कारोबार करने में आसानी के साथ-साथ भारत की गति और पैमाना जापानी कारोबारों के लिए बेजोड़ अवसर पैदा करते हैं.

उन्होंने ‘भारत-जापान: शांति, स्थिरता और समृद्धि के लिए एक भागीदारी’ शीर्षक के तहत छपे लेख में लिखा कि पिछले कुछ साल में भारत ने विनिर्माण क्षेत्र, सेवा, कृषि और डिजिटल प्रौद्योगिकी के बुनियादी ढांचे की मजबूत नींव बनाने की यात्रा शुरू की.

मोदी ने कहा, ‘मैं भारत में लगातार हो रहे बदलाव में जापान को एक अपरिहार्य साझेदार के रूप में देखता हूं.’

उन्होंने कहा, ‘हमने भारत में 100 से अधिक यूनिकॉर्न के साथ एक गतिशील स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को भी बढ़ावा दिया है. जापानी राजधानी इस प्रयास में पहले से ही महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. इस दिशा में और बहुत कुछ किए जाने की संभावना है.’

जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा के निमंत्रण पर पीएम मोदी दो दिवसीय यात्रा पर वहां पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री मोदी 24 मई को अन्य क्वाड सदस्यों के साथ टोक्यो में तीसरे क्वाड लीडर्स समिट में हिस्सा लेंगे.

प्रधानमंत्री 24 मई को जापान के प्रधानमंत्री फुमियो किशिदा के साथ द्विपक्षीय बैठक करेंगे.


यह भी पढ़ेंः एक और एक्सटेंशन मिला तो सामंत गोयल कुछ दशकों में सबसे लंबे समय तक पद पर रहने वाले रॉ प्रमुख बन जाएंगे


share & View comments