Monday, 17 January, 2022
होमदेशमुंबई के ठाणे में प्राइम क्रीटिकेयर हॉस्पिटल में आग लगने से चार मरीजों की मौत, नहीं थे कोरोना के पेशेंट

मुंबई के ठाणे में प्राइम क्रीटिकेयर हॉस्पिटल में आग लगने से चार मरीजों की मौत, नहीं थे कोरोना के पेशेंट

ठाणे के करीब मुंब्रा इलाके में कौसा में स्थित प्राइम क्रीटिकेयर हॉस्पिटल में तड़के तीन बजकर 40 मिनट पर आग लगी. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हादसे की जानकारी दी गई हर मृतक के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा और घायलों को एक-एक लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा.

Text Size:

ठाणे: मुंबई में ठाणे के समीप एक निजी अस्पताल में बुधवार तड़के आग लगने से कम से कम चार मरीजों की मौत हो गई.

एक अधिकारी ने बताया कि ठाणे के समीप मुंब्रा इलाके में कौसा में स्थित प्राइम क्रीटिकेयर हॉस्पिटल में तड़के तीन बजकर 40 मिनट पर आग लगी. अस्पताल में कोरोनावायरस का कोई मरीज नहीं था.

उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर दमकल की तीन गाड़ियां और पांच एम्बुलेंस भेजी गई. आग पर काबू पा लिया गया है.

उन्होंने बताया कि आईसीयू में भर्ती छह मरीजों समेत 20 मरीजों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

स्थानीय विधायक और महाराष्ट्र के मंत्री जितेंद्र अव्हाद ने पत्रकारों को बताया कि घटना में कम से कम तीन लोग जिंदा जल गए. आग से अस्पताल की पहली मंजिल जलकर खाक हो गई.

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हादसे की जानकारी दी गई है. प्रत्येक मृतक के परिवार को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा और घायलों को एक-एक लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा.

अव्हाद ने बताया कि आग लगने की वजह का पता लगाने के लिए एक उच्च स्तरीय जांच समिति गठित की गई है. समिति में ठाणे नगर निगम के अधिकारी और पुलिस तथा मेडिकल के अधिकारी भी शामिल होंगे.

मौके पर मौजूद सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर मधुकर शिवाजी काड ने बताया कि इस आग में चार लोगों की मौत हो गई है. मौत के कारण का पता पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही चलेगा. शुरुआत में हमें सूचना मिली की अस्पताल में 12 लोग है लेकिन यह संख्या बदल भी सकती है. पुलिस की जांच चल रही है और इसपर कार्यवाई की जाएगी.

गौरतलब है कि पालघर जिले के विरार में 23 अप्रैल को एक निजी अस्पताल के आईसीयू में आग लगने से कोविड-19 के 15 मरीजों की मौत हो गई थी.


य़ह भी पढ़ें: असम में एक के बाद एक तीन 6.4 तीव्रता के भूकंप के झटके, मेघालय और उत्तर बंगाल भी हिला


 

share & View comments