Wednesday, 25 May, 2022
होमएजुकेशनभारत को उम्मीद है कि 2030 तक सभी प्राथमिक और लोअर सेकेंडरी स्कूली बच्चे शिक्षित हो जाएंगे: यूनेस्को रिपोर्ट

भारत को उम्मीद है कि 2030 तक सभी प्राथमिक और लोअर सेकेंडरी स्कूली बच्चे शिक्षित हो जाएंगे: यूनेस्को रिपोर्ट

अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस पर पेरिस में जारी यूनेस्को की वैश्विक शिक्षा मॉनिटरिंग रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को उम्मीद है कि उच्च माध्यमिक नामांकन जो 2015 में 55% था से बढ़कर 88% हो जाएगा.

Text Size:

नई दिल्ली: भारत को उम्मीद है कि 2030 तक सभी के लिए ‘गुणवत्तापूर्ण शिक्षा’ के सतत विकास लक्ष्य -4 (एसडीजी) पर नज़र रखने वाली यूनेस्को की रिपोर्ट के अनुसार, 2030 तक प्राथमिक और लोअर सेकेंडरी स्तर के सभी बच्चे शिक्षित हो जाएंगे.

24 जनवरी को अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा दिवस के अवसर पर पेरिस में जारी वैश्विक शिक्षा मॉनिटरिंग रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ.

लेकिन ये लक्ष्य उस महामारी के लिये उत्तरदायी नहीं हैं, जिसने दुनिया भर में शिक्षा क्षेत्र पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है. महीनों से स्कूल बंद होने से कई देश अपने लक्ष्य में लड़खड़ा गए हैं.

उच्च माध्यमिक शिक्षा में नेपाल भारत से आगे

प्रारंभिक बचपन की शिक्षा के संदर्भ में, यह अनुमान है कि पांच वर्ष की आयु के सभी बच्चों को 2030 तक स्कूलों में नामांकित किया जाएगा. अगले तीन वर्षों में यह संख्या 80 प्रतिशत होने की संभावना है. हालांकि, माध्यमिक शिक्षा अभी भी चिंता का विषय बनी हुई है.

2015 में भारत की शिक्षा की स्थिति को सूचीबद्ध करने वाली रिपोर्ट से पता चला है कि 29.9 प्रतिशत छात्र उच्च माध्यमिक आयु वर्ग में नामांकित नहीं थे. यह पड़ोसी देश नेपाल की 22.7 प्रतिशत की दर से भी बदतर था. रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि 2015 में भारत के 16 से 18 साल के लगभग एक तिहाई बच्चे स्कूल से बाहर थे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

जबकि भारत को उम्मीद है कि सभी छात्र 2030 तक प्राथमिक और निम्न माध्यमिक स्तर की शिक्षा पूरी कर लेंगे, यह 2015 में 55.8 प्रतिशत से उच्च माध्यमिक स्तर में नामांकन को बढ़ाकर 88 प्रतिशत करने की उम्मीद करता है.

जून 2021 में नीति आयोग द्वारा जारी राष्ट्रीय एसडीजी रिपोर्ट के अनुसार, ‘कक्षा 8 में लगभग 71.9 प्रतिशत छात्रों ने राष्ट्रीय स्तर पर परिभाषित सीखने के परिणामों के संदर्भ में भाषा और गणित में कम से कम न्यूनतम प्रवीणता स्तर हासिल किया.’

रिपोर्ट बताती है कि ये संख्या 2015 की तुलना में काफी अधिक है. उस वर्ष, 36.5 प्रतिशत और 38.8 प्रतिशत छात्रों ने प्राथमिक शिक्षा के अंत में पढ़ने और गणित में न्यूनतम दक्षता हासिल की. हालांकि, 2025 में यह संख्या बढ़कर 90 फीसदी और 85 फीसदी होने की उम्मीद है.

2015 में गणित प्रवीणता का निम्न माध्यमिक स्तर, 12.3 प्रतिशत, बांग्लादेश (31 प्रतिशत), नेपाल (53.8 प्रतिशत), पाकिस्तान (68 प्रतिशत) और श्रीलंका (50.6 प्रतिशत) की तुलना में कम था. लेकिन भारत के लिए यह संख्या 2030 तक छह गुना बढ़कर 75 प्रतिशत होने की उम्मीद है.

ग्लोबल एजुकेशन मॉनिटरिंग रिपोर्ट के निदेशक मानोस एंटोनिनिस ने दिप्रिंट को बताया, हालांकि यह एक बड़ी छलांग की तरह लग सकता है, ‘सीखने के परिणामों के मामले में यह देखा गया है कि न्यूनतम दक्षता प्राप्त करने वाले छात्रों की संख्या देश में आमतौर पर शेयर में प्रति वर्ष 0.6 प्रतिशत अंक की दर से सुधार करते हैं. लेकिन जो देश इससे भी पीछे हैं, उन्हें तीन गुना तेज गति से प्रगति करते देखा गया है.’

जबकि, संयुक्त राष्ट्र 2030 तक शिक्षा पर कम से कम 4 प्रतिशत से 6 प्रतिशत सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) या कम से कम 15 प्रतिशत से 20 प्रतिशत सार्वजनिक व्यय की सिफारिश करता है, भारत बहुत आगे है. भारत को शिक्षा के लिए सकल घरेलू उत्पाद के आवंटन का 6 प्रतिशत प्राप्त करने की उम्मीद है,  जो कि नई शिक्षा नीति 2020 के अनुरूप इन लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए शिक्षा पर खर्च में वृद्धि है.

एंटोनिनिस ने कहा, ‘भारत में, यह केवल एक हालिया उपलब्धि है कि अनिवार्य शिक्षा को निम्न माध्यमिक विद्यालय तक बढ़ा दिया गया है. इस मायने में, भारत अधिकांश अन्य मध्यम आय वाले देशों से अलग नहीं है. लेकिन हम मानते हैं कि पिछले 20 वर्षों में प्राथमिक और निम्न माध्यमिक विद्यालयों तक पहुंच का नाटकीय विस्तार, जो अब तक का सबसे तेज और इतने पैमाने पर देखा गया है. अगले कुछ साल में उच्च माध्यमिक शिक्षा तक पहुंच बढ़ाने के लिए और अधिक दबाव में तब्दील हो जाएगा.’

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments