Monday, 24 January, 2022
होमदेशदिल्ली में कड़ाके की ठंड के बीच छाया रहा कोहरा, न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस

दिल्ली में कड़ाके की ठंड के बीच छाया रहा कोहरा, न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री सेल्सियस

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने कहा, ‘‘शहर में मुख्यत: आसमान साफ रहेगा और मध्यम से घना कोहरा छाया रहेगा.’’

Text Size:

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी में बृहस्पतिवार की सुबह घना कोहरा छाया रहा और सात बजे दृश्यता कम होकर 100 मीटर तक रह गयी. शहर में न्यूनतम तापमान मौसम के औसत से दो डिग्री कम 5.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

मौसम कार्यालय के अनुसार, सफदरजंग वेधशाला में सुबह सात बजे घने कोहरे के कारण दृश्यता कम होकर 100 मीटर तक दर्ज की गयी. पालम में बृहस्पतिवार को सुबह साढ़े चार बजे के बाद घने कोहरे के कारण दृश्यता 50 मीटर और 100 मीटर के बीच रही.

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने कहा, ‘‘शहर में मुख्यत: आसमान साफ रहेगा और मध्यम से घना कोहरा छाया रहेगा.’’

उन्होंने बताया कि बृहस्पतिवार को अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहेगा. बुधवार को अधिकतम तापमान सामान्य से दो डिग्री कम 18.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. बृहस्पतिवार को सुबह साढ़े आठ बजे सापेक्षिक आर्द्रता 100 प्रतिशत रही.

अधिकारियों ने बताया कि घने कोहरे के कारण दिल्ली आने वाली लंबी दूरी की ट्रेनों में भी देरी हुई.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में बृहस्पतिवार की सुबह वायु गुणवत्ता खराब श्रेणी में रही और एक्यूआई सुबह नौ बजे 290 दर्ज किया गया. फरीदाबाद में एक्यूआई 219, गाजियाबाद में 296, गुरुग्राम में 220, ग्रेटर नोएडा में 294 और नोएडा में 253 दर्ज किया गया.

शून्य और 50 के बीच एक्यूआई को ‘अच्छा’, 51 और 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 और 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 और 300 के बीच ‘खराब’, 301 और 400 के बीच ‘बहुत खराब’ और 401 और 500 के बीच ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है.


यह भी पढ़ें- बढ़ रहा कोरोना की तीसरी लहर का खतरा, बीते 24 घंटों में 2.47 लाख केस, एक्टिव मामले 11 लाख पार


share & View comments