scorecardresearch
Thursday, 11 July, 2024
होमदेशअर्थजगतविस्तारा का एयर इंडिया में होगा विलय, सिंगापुर एयरलाइंस और टाटा संस के बीच हुआ करार

विस्तारा का एयर इंडिया में होगा विलय, सिंगापुर एयरलाइंस और टाटा संस के बीच हुआ करार

टाटा समूह ने मंगलवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि प्रस्तावित सौदा मार्च, 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है जो नियामकीय मंजूरी पर निर्भर है.

Text Size:

नई दिल्ली: विमानन क्षेत्र में बड़े स्तर पर एकीकरण की तैयारी है. इसके तहत विस्तारा का एयर इंडिया के साथ विलय होगा. इस सौदे के बाद सिंगापुर एयरलाइंस की एयर इंडिया में 25.1 प्रतिशत हिस्सेदारी होगी.

टाटा समूह ने मंगलवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि प्रस्तावित सौदा मार्च, 2024 तक पूरा होने की उम्मीद है जो नियामकीय मंजूरी पर निर्भर है.

विस्तारा में टाटा समूह की 51 प्रतिशत हिस्सेदारी है. बाकी 49 प्रतिशत हिस्सेदारी सिंगापुर एयरलाइंस (एसआईए) के पास है.

एसआईए ने एक बयान में कहा कि विस्तारा और एयर इंडिया का विलय होगा. इस विलय सौदे के तहत एसआईए एयर इंडिया में 2,058.5 करोड़ रुपये का निवेश भी करेगी.

सिंगापुर एयरलाइंस ने कहा कि वह इस निवेश का वित्तपोषण आंतरिक नकदी संसाधनों से करेगी.

टाटा समूह ने अलग से बयान जारी कर कहा कि इस विलय के साथ एयर इंडिया देश की सबसे प्रमुख घरेलू और अंतरराष्ट्रीय उड़ान सेवा देने वाली एयरलाइन होगी. उसके बेड़े में 218 विमान होंगे और वह देश की सबसे बड़ी अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनी तथा दूसरी सबसे बड़ी घरेलू एयरलाइन होगी.

एसआईए और टाटा संस जरूरत होने पर वृद्धि और परिचालन को गति देने के लिये वित्त वर्ष 2022-23 और वित्त वर्ष 2023-24 में अतिरिक्त पूंजी डालने पर भी सहमत हुए हैं.

टाटा संस के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा कि एयर इंडिया को वैश्विक स्तर की एयरलाइन कंपनी बनाने की दिशा में विस्तारा और एयर इंडिया का विलय मील का पत्थर साबित होगा.

उन्होंने कहा, ‘बदलाव के तहत, एयर इंडिया अपने नेटवर्क और बेड़े दोनों को बढ़ाने के साथ ग्राहकों को सेवाओं की पेशकश को नया रूप देने, सुरक्षा और भरोसे के साथ प्रदर्शन को बेहतर करने पर ध्यान केंद्रित कर रही है. हम एक मजबूत एयर इंडिया बनाने के अवसर से उत्साहित हैं. यह घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर पूर्ण सेवा और कम लागत वाली सेवा दोनों की पेशकश करेगी.’

टाटा समूह से चार एयरलाइन जुड़ी हैं. ये हैं…एयर इंडिया, एयर इंडिया एक्सप्रेस, एयर एशिया इंडिया और विस्तारा. टाटा समूह ने एयर इंडिया और एयर इंडिया एक्सप्रेस का इस साल जनवरी में अधिग्रहण किया था.

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेंट के लिए दिप्रिंट जिम्मेदार नहीं है.


यह भी पढ़ें: जी-20 की अध्यक्षता से सिर्फ प्रतिष्ठा मिलेगी, इसके बदले भारत को सुरक्षा और चीन पर नजर रखना चाहिए


 

share & View comments