scorecardresearch
Sunday, 14 July, 2024
होमदेशआबकारी घोटाला मामले में दिल्ली HC ने सीबीआई मामले में मनीष सिसोदिया की जमानत याचिका खारिज की

आबकारी घोटाला मामले में दिल्ली HC ने सीबीआई मामले में मनीष सिसोदिया की जमानत याचिका खारिज की

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सीबीआई ने कहा, नेताओं के बयानों से पता चलता है कि कैसे न केवल आवेदक बल्कि उनकी पार्टी के सहयोगी अभियुक्त को बचाने के लिए कोशिशों में जुटे हैं.

Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली हाई कोर्ट ने मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी में पिछली शराब नीति के कार्यान्वयन में कथित भ्रष्टाचार से संबंधित केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) मामले में दिल्ली के पूर्व उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की ज़मानत याचिका खारिज कर दी.

न्यायमूर्ति दिनेश कुमार शर्मा की खंडपीठ ने सिसोदिया को जमानत देने से इनकार करते हुए कहा कि आवेदक (सिसोदिया) के शक्तिशाली व्यक्ति होने के कारण उनके गवाहों को प्रभावित करने की संभावना है.

जिरह के दौरान, सीबीआई ने मनीष सिसोदिया की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा, ‘‘आवेदक (सिसोदिया) का कार्यपालिका, कार्यालयों और नौकरशाहों के साथ घनिष्ठ संबंध है और उनका प्रभाव और दबदबा स्पष्ट है. उच्च पद पर आसीन उनकी पार्टी के सहयोगी जांच को प्रभावित करने के लिए तथ्यात्मक रूप से गलत दावे करते रहते हैं और दावा करते हैं कि आवेदक राजनीतिक प्रतिशोध का शिकार है.’’

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सीबीआई ने कहा, नेताओं के उक्त बयानों के अवलोकन से पता चलता है कि कैसे न केवल आवेदक बल्कि उनकी पार्टी के सहयोगी अभियुक्त को बचाने के लिए कोशिशों में जुटे हैं.

सीबीआई ने आगे कहा, बयान विशेष न्यायाधीश (सीबीआई) के अधिकार को भी कमजोर करते हैं, जिसने पहले ही अपराधों का संज्ञान ले लिया है और सीबीआई के खिलाफ अनुचित और निराधार आरोप लगाकर जांच को प्रभावित करने के लिए ऐसा किया जा रहा है, जिससे वो मामले के गवाहों को प्रभावित कर रहे हैं और डरा रहे हैं.

सीबीआई ने दिल्ली हाई कोर्ट में दायर अपने जवाब में कहा कि आवेदक की ज़मानत पर रिहाई गंभीर रूप से जांच को प्रतिकूल रूप से प्रभावित करेगी, विशेष रूप से तब जब आवेदक जमानत के लिए ‘ट्रिपल टेस्ट’ को पूरा करने में विफल रहे हैं.

पहले की दलीलों के दौरान, मनीष सिसोदिया ने वरिष्ठ अधिवक्ता दयान कृष्णन के माध्यम से कहा कि केंद्रीय जांच ब्यूरो के पास सरकार की आबकारी नीति के निर्माण और कार्यान्वयन में कथित अनियमितताओं में उनकी संलिप्तता दिखाने के लिए कोई सबूत नहीं है.

वकील ने कहा कि सिसोदिया को छोड़कर सीबीआई मामले के सभी आरोपियों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है.

इस मामले में एफआईआर दर्ज होने के 6 महीने से अधिक समय बाद 26 फरवरी, 2023 को सिसोदिया को गिरफ्तार किया गया था और आवेदक की गिरफ्तारी से पहले 6 महीने की उक्त जांच की संपूर्णता के दौरान, ऐसा एक भी मौका नहीं था कि आवेदक ने किसी गवाह को कोई धमकी दी हो.

सिसोदिया ने अपनी जमानत में कहा कि आवेदक की कोई सामग्री या पूर्ववृत्त होने के बिना गवाह को खतरे की संभावना उत्पन्न नहीं कहा जा सकता है. आवेदक के खिलाफ इस मामले में गवाह मुख्य रूप से सिविल सेवक हैं, जिन पर आवेदक का कोई नियंत्रण नहीं है, खासकर अब जब उन्होंने अपने आधिकारिक पद से इस्तीफा दे दिया है.

इससे पहले दिल्ली हाई कोर्ट ने आबकारी से जुड़े सीबीआई मामले में मनीष सिसोदिया द्वारा दायर जमानत याचिका पर सीबीआई को नोटिस जारी किया था, जिसमें ट्रायल कोर्ट के आदेश को चुनौती दी गई थी.

सिसोदिया को सीबीआई ने 26 फरवरी, 2023 को गिरफ्तार किया था और वर्तमान में न्यायिक हिरासत में हैं.

सीबीआई के अनुसार, सिसोदिया ने आपराधिक साजिश में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी और वे उक्त साजिश के उद्देश्यों की प्राप्ति सुनिश्चित करने के लिए उक्त नीति के निर्माण और कार्यान्वयन में शामिल थे.


यह भी पढ़ेंः ‘ज़मीर बेच दिया’—महीनों की खामोशी के बाद JD (U) के RS के उपसभापति हरिवंश से दूरी के क्या हैं कारण


 

share & View comments