Monday, 17 January, 2022
होमदेश'कोविड खत्म नहीं हुआ'- मोदी सरकार ने दिल्ली में छठ पूजा के लिए अलग गाइडलाइन्स जारी करने से मना किया

‘कोविड खत्म नहीं हुआ’- मोदी सरकार ने दिल्ली में छठ पूजा के लिए अलग गाइडलाइन्स जारी करने से मना किया

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मंसुख मंडाविया को पत्र लिखकर, छठ पूजा के लिए अलग से गाइडलाइन्स जारी करने की मांग की थी. इससे पहले DDMA ने सार्वजनिक स्थलों पर छठ पूजा उत्सव मनाए जाने पर पाबंदी लगा थी.

Text Size:

नई दिल्ली: दिप्रिंट को मिली जानकारी के मुताबिक नरेंद्र मोदी सरकार ने, छठ पूजा के लिए अलग से दिशा-निर्देश जारी किए जाने की संभावना को ख़ारिज कर दिया है, जैसा कि दिल्ली सरकार ने अनुरोध किया था. सरकार ने कहा है कि कोविड-19 एडवाइज़रीज़ पहले से ही मौजूद हैं.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के एक सूत्र ने कहा, ‘कोविड-19 के लिए मानक संचालन प्रक्रियाएं (एसओपी) मौजूद हैं. कोविड गाइडलाइन्स किसी न किसी रूप में राज्यों में पहले से ही मौजूद हैं. अपनी ज़रूरतों के हिसाब से राज्य, उन गाइडलाइन्स को फिर से अमल में ला रहे हैं. इसलिए छठ के लिए ताज़ा एसओपी जारी करने का कोई मतलब नहीं बनता.’

सूत्र ने आगे कहा, ‘इसमें कोई सियासत नहीं होनी चाहिए. हम सब मिलकर कोविड-19 से लड़ रहे हैं. कोविड अभी ख़त्म नहीं हुआ है, और हम सब को अपना काम करने की ज़रूरत है.

पिछले महीने, दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) ने- जिसके अध्यक्ष दिल्ली के उप-राज्यपाल हैं, और जिसमें यूटी सरकार के प्रतिनिधि होते हैं- महामारी के कारण जलाशयों तथा अन्य सार्वजनिक स्थलों पर, छठ पूजा मनाए जाने पर पाबंदी लगा दी थी.

दिल्ली बीजेपी ने इस क़दम की आलोचना की थी और पार्टी की दिल्ली इकाई के पूर्व अध्यक्ष व सांसद मनोज तिवारी ने, इन निर्देशों के खिलाफ प्रदर्शन भी किया था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया को पत्र लिखकर आग्रह किया कि स्वास्थ्य विशेषज्ञों से सलाह करके, छठ पूजा का उत्सव मनाने के लिए अलग से गाइडलाइन्स जारी की जाएं. उनका कहना था कि दिल्ली में कोविड की स्थिति अब नियंत्रण में है.

बुधवार को जारी कोविड के ताज़ा अपडेट के अनुसार, पिछले 24 घंटों में दिल्ली में कोविड के 31 मामले दर्ज किए गए, 58 मरीज़ ठीक हुए, और कोई मौत नहीं हुई. राष्ट्रीय राजधानी में कोविड के 338 सक्रिय मामले हैं.


यह भी पढ़ेंः वैक्सीन न लगवाने वाले दिल्ली सरकार के कर्मचारियों को 16 अक्टूबर से कार्यालय आने की मनाही: DDMA


100 करोड़ टीकाकरण

स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार, उम्मीद की जा रही है कि 18-19 अक्तूबर तक भारत, 100 करोड़ के टीकाकरण आंकड़े को पार कर जाएगा. पहले, सरकार अपेक्षा कर रही थी कि ये लक्ष्य 10-12 अक्तूबर तक हासिल कर लिया जाएगा.

एक सूत्र ने बताया कि इस लक्ष्य तक पहुंच जाने के बाद, उपलब्धि का जश्न मनाने के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय, कोविड योद्धाओं, स्वास्थ्य कर्मियों, तथा फ्रंटलाइन वर्कर्स के साथ मिलकर, देश भर में अलग अलग कार्यक्रम आयोजित करेगा.

सूत्रों ने आगे कहा कि इस महीने, ज़ाइकोव-डी वैक्सीन के 60 लाख डोज़ भी बाज़ार में आ जाएंगे.

इस बीच, अक्तूबर में 28 करोड़ से अधिक वैक्सीन ख़ुराकें भी उपलब्ध होंगी- जिनमें 22 करोड़ कोविशील्ड और 6 करोड़ कोवैक्सीन की ख़ुराकें होंगी. सितंबर महीने में, वैक्सीन के कुल 18.74 करोड़ डोज़ लगाए गए.

लेकिन, सूत्र ने कहा कि सरकार अतिरिक्त उत्पादन का आंकलन करने के बाद ही, वैक्सीन्स के निर्यात पर विचार करेगी.

मंत्रालय के सूत्र ने कहा, ‘वैक्सीन निर्यात फिलहाल हमारी प्राथमिकता नहीं है. पहले हम सुनिश्चित करना चाहते हैं, कि हर किसी को टीका लग जाए. हम चौथी तिमाही में अतिरिक्त उत्पादन का आंकलन करेंगे, जिसके बाद वैक्सीन निर्यात पर निर्णय लिया जाएगा’.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढे़ंः एक्सपर्ट पैनल ने बच्चों को आपातकाल में कोवैक्सीन लगाने की सिफ़ारिश की, 2-18 साल तक के बच्चों को लगेगा टीका


 

share & View comments