Thursday, 30 June, 2022
होमदेशअपराध‘साइबर दूल्हों’ से सावधान: यूपी में बड़ी उम्र की लड़कियों को फंसाने के कई मामले, 1930 टोल फ्री नंबर पर करें फोन

‘साइबर दूल्हों’ से सावधान: यूपी में बड़ी उम्र की लड़कियों को फंसाने के कई मामले, 1930 टोल फ्री नंबर पर करें फोन

अगर आप अपने परिवार के किसी सदस्य की शादी के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन विज्ञापन देख रहे हैं, तो थोड़ा होशियार हो जाएं. साइबर ठग अब शादी के नाम पर भी ठगी करने में जुट गए हैं.

Text Size:

नोएडा (उप्र): उत्तर प्रदेश के साइबर अपराध के पुलिस अधीक्षक (एसपी) प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह ने लोगों से अपील की है कि वे ‘साइबर दूल्हो’ से सावधान रहें.

उन्होंने बताया कि डिजिटल मंच पर कुछ लोग अपनी फर्जी प्रोफाइल बना अविवाहित युवतियों तथा अकेले रहने वाली महिलाओं को अपने जाल में फंसा, उनसे मोटी रकम ठग रहे हैं. इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं.

सिंह ने बताया कि उत्तर प्रदेश साइबर अपराध पुलिस ने इस तरह के दर्जनों मामलों का खुलासा किया है. इनमें नाइजीरियन या शादीशुदा व्यक्ति सोशल मीडिया पर किसी सुंदर व्यक्ति की तस्वीर लगाकर, अपने आपको कुंवारा बताते हैं और युवतियों को अपने जाल में फंसा लेते हैं. बाद में ये लोग कीमती गिफ्ट हवाई अड्डे पर जब्त किए जाने, बीमारी तथा सड़क दुर्घटना आदि का बहाना बनाकर युवती तथा उसके परिजन से मोटी रकम वसूल लेते हैं और फिर रफूचक्कर हो जाते हैं.


यह भी पढ़ें: बिहार में पत्नी को चरित्रहीन बता सिर मुंडवाया, चेहरे पर मली कालिख, गांव में घुमाया, पति गिरफ्तार


बड़ी उम्र की लड़कियां बन रहीं है शिकार

त्रिवेणी सिंह ने बताया कि ये लोग ज्यादातर उन युवतियों को शिकार बना रहे हैं, जिन्होंने ज्यादा उम्र होने पर भी शादी नहीं की तथा उनकी शादी में अब अड़चन आ रही है या वे युवतियां जो शादी करके विदेश में जाकर बसना चाहती हैं.

उन्होंने कहा कि अगर आप अपने परिवार के किसी सदस्य की शादी के लिए ऑनलाइन या ऑफलाइन विज्ञापन देख रहे हैं, तो थोड़ा होशियार हो जाएं. साइबर ठग अब शादी के नाम पर भी ठगी करने में जुट गए हैं. देश के महानगरों मे अब तक इस तरह के कई मामले सामने आ चुके हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सिंह ने कहा कि साइबर अपराध का शिकार होने पर लोग 1930 पर तुरंत संपर्क करें और अपनी शिकायत दर्ज कराएं. साइबर अपराध को रोकने के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने विशेष पहल की है. उत्तर प्रदेश में 18 साइबर थाने खोले गए हैं. पीड़ित लोगों की मदद के लिए लखनऊ मुख्यालय में 48 विशेषज्ञ लोगों की टीम बनाई गई है.

उन्होंने लोगों से अपील की कि वे सावधान रहें और अगर कोई व्यक्ति केवाईसी (नो योर कस्टमर) अपडेट करने, बैंक संबंधित जानकारी देने, इंटरनेट की गति बढ़ाने या क्रेडिट कार्ड की सीमा बढ़ाने आदि के नाम पर आपसे संपर्क करता है और कोई ऐप ‘डाउनलोड’ करने की बात कहता है, तो तुरंत सावधान हो जाएं. वह साइबर ठाक हो सकता है.


यह भी पढ़ें: बल्क SMS, कॉल्स, फर्ज़ी SBI एप, 6 मॉड्यूल्स- KYC धोखेबाज़ों ने कैसे 8,000 से अधिक पीड़ितों को लूटा


 

share & View comments