Saturday, 4 December, 2021
होमदेशकेरल में गणतंत्र दिवस पर सीएए के खिलाफ 620 किमी. मानव श्रृंखला बनाई, संविधान बचाने की ली शपथ

केरल में गणतंत्र दिवस पर सीएए के खिलाफ 620 किमी. मानव श्रृंखला बनाई, संविधान बचाने की ली शपथ

एलडीएफ ने दावा किया कि इस मानव श्रृंखला में करीब 60-70 लाख लोगों ने हिस्सा लिया. केंद्र सरकार के प्रयासों से संविधान को बचाने की शपथ ली गयी.

Text Size:

तिरुवनंतपुरम: संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को वापस लेने की मांग करते हुए केरल में रविवार को गणतंत्र दिवस पर माकपा की अगुवाई वाले सत्तारूढ़ वाम लोकतांत्रिक मोर्चा (एलडीएफ) ने उत्तरी हिस्से से 620 किलोमीटर लंबी मानव श्रृंखला बनाकर प्रदर्शन किया. साथ मानव शृंखला में संविधान बचाने की शपथ ली गई.

एलडीएफ ने उत्तरी केरल के कसारगोड से सुदूर दक्षिणतम हिस्से कालियाक्कविलाई तक मानव श्रृंखला बनायी.

मुख्यमंत्री पिनराई विजयन और भाकपा नेता कनम राजेंद्रन ने तिरूवनंतपुरम में इस प्रदर्शन में भाग लिया.

एलडीएफ ने दावा किया कि इस मानव श्रृंखला में करीब 60-70 लाख लोगों ने हिस्सा लिया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यह मानव श्रृंखला चार बजे बनायी गयी जिसके बाद संविधान की प्रस्तावना पढ़ी गयी.

बाद में केंद्र सरकार के प्रयासों से संविधान को बचाने की शपथ ली गयी.

वरिष्ठ माकपा नेता एस रामचंद्रन पिल्लै कसारगोड़ में इस 620 लंबी श्रृंखला में पहली कड़ी थे जबकि कालियाक्कविलाई में एम ए बेबी आखिरी कड़ी. जीवन के विभिन्न क्षेत्रों की कई अहम हस्तियां इससे जुड़ीं.

केरल विधानसभा ने इस विवादित कानून को खत्म करने के लिए प्रस्ताव पारित किया है. ऐसा करने वाला केरल पहला राज्य है. वह मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है.

(न्यूज एजेंसी भाषा के इनपुट्स के साथ)

share & View comments