Thursday, 7 July, 2022
होमएजुकेशनबैचलर डिग्री संग प्रोफेशनल डिप्लोमा दिलवा कर 10 लाख नौकरियां बनाने की तैयारी में मोदी सरकार

बैचलर डिग्री संग प्रोफेशनल डिप्लोमा दिलवा कर 10 लाख नौकरियां बनाने की तैयारी में मोदी सरकार

Text Size:

यह 10 महीने का डिप्लोमा कोर्स होगा जिसे नियमित/संस्थागत स्नातक डिग्री के साथ जारी रखा जा सकता है। इसमें इंटीरियर डिजाइनिंग, बैंकिंग और रिटेल जैसे विषय शामिल हैं।

नई दिल्ली: केंद्र सरकार बैंकिंग, प्रबंधन और हास्पिटैलिटी जैसे क्षेत्रों में व्यवसायिक डिप्लोमा पाठ्यक्रम शुरू करने के लिए तैयार है जो नियमित/संस्थागत स्नातक डिग्री के साथ जारी किए जा सकते हैं।

योजना, जिसकी अक्टूबर में शुरू होने की उम्मीद है, का उद्देश्य आगामी वर्षों में 10 लाख युवाओं के लिए नौकरी के अवसर उत्पन्न करना है।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने बीए, बीकॉम और बीएससी (व्यवसायिक) के लिए एक योजना को मंजूरी दे दी है और जल्द ही इस संबंध में एक घोषणा जारी की जा सकती है। इस हफ्ते कुलपतियों की बैठक में इस योजना को स्वीकार किया जाएगा।

इस योजना में 10 महीने का डिप्लोमा कोर्स है और छात्र अपने पाठ्यक्रम, जिससे वे स्नातक कर रहे हैं, के अनुसार पेश किए गए कई विषयों में से एक को चुन सकते हैं। पेश किए जाने वाले पाठ्यक्रमों में बैंकिंग, हेल्थकेयर, रिटेल, फैशन डिजाइनिंग, इंटीरियर डिजाइनिंग आदि शामिल हैं।

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पाठ्यक्रम राष्ट्रीय कौशल विकास निगम द्वारा स्थापित क्षेत्र कौशल परिषद स्वायत्त उद्योग के नेतृत्व वाले निकायों द्वारा अनुमोदित किया जाएगा जो इन पाठ्यक्रमों के छात्रों को प्रशिक्षण भी प्रदान करेगा।

देश भर के निजी विश्वविद्यालयों सहित सभी विश्वविद्यालयों, को इन व्यवसायिक पाठ्यक्रमों की पेशकश करने के लिए कहा जाएगा। छात्रों को कौशल विकास मंत्रालय और इसके प्रशिक्षक भागीदारों द्वारा आवश्यक बुनियादी ढाँचा प्रदान किया जाएगा।

विकास की पुष्टि करते हुए, मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “हमने एक योजना को मंजूरी दी है जो स्नातक स्तर के छात्रों को डिप्लोमा और डिग्री दोनों प्रदान करेगी।”

अधिकारी ने कहा, “डिग्री उन्हें उच्च शिक्षा में मदद करेगी और डिप्लोमा उन्हें नौकरी पाने में मदद करेगा यदि वे नौकरी करना चाहते हैं।”

अधिकारी ने बताया कि उद्योग भागीदारों की मदद से छात्रों को ऑन-कैंपस और ऑफ-कैंपस दोनों प्रशिक्षण प्रदान किए जाएंगे।

वर्तमान में कुछ पाठ्यक्रमों जैसे बीए पत्रकारिता, हॉस्पिटैलिटी और पर्यटन से बीए को छोड़कर, बीए, बीकॉम और बीएससी पाठ्यक्रमों का स्वरूप पूरी तरह से शैक्षिक है। अधिकारी ने कहा, “अब यदि कोई छात्र डिप्लोमा कोर्स में नामांकन करना स्वीकार करता है, तो यह उनके लिए एक अतिरिक्त लाभ होगा।”

share & View comments