एनसीईआरटी की पहली कक्षा की हिंदी कविता की किताब रिमझिम में 'आम की टोकरी' में कविता के अंश । फोटोः ट्विटर । @AwanishSharan
Text Size:

नई दिल्ली: पहली कक्षा की हिंदी पाठ्यपुस्तक में छपी बच्चों की एक कविता जिसे राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसन्धान और प्रशिक्षण परिषद (एनसीईआरटी) ने प्रकाशित किया है, सोशल मीडिया पर आलोचना का शिकार हो रही है.

‘आम की टोकरी’ शीर्षक की इस कविता में सर पर आमों की टोकरी रखे उन्हें बेंचने ले जा रही छह साल की एक बच्ची के लिए ‘छोकरी’ शब्द (कन्या के लिए एक ग़ैर-अपमानजनक आमबोल का शब्द) इस्तेमाल किया गया है. इसके विषय की भी, ‘बाल श्रम’ को बढ़ावा देने के लिए आलोचना की जा रही है.

इसे सबसे पहले बृहस्पतिवार को अवनीश शरन ने शेयर किया, जो 2009 बैच के छत्तीसगढ़ काडर के आईएएस अधिकारी हैं और राज्य के तकनीकी शिक्षा विभाग में काम करते हैं. पाठ्यपुस्तक से कविता का स्क्रीनशॉट साझा करते हुए उन्होंने इस साहित्य को घटिया क्वालिटी का बताया, कवि की साख पर सवाल उठाए और अधिकारियों को इसे पाठ्यक्रम से हटाने के लिए कहा.

 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दूसरे ट्विटर यूज़र्स ने जल्द ही ट्वीट को उठा लिया और इसे पाठ्यक्रम में शामिल करने के लिए कविता और एनसीईआरटी दोनों पर सवाल उठाने शुरू कर दिए. एक यूज़र ने कहा, ‘ये बाल श्रम को बढ़ावा दे रही है.’

 

एक अन्य यूज़र ने हैरानी जताई कि स्कूलों में बच्चों को ऐसी कविताएं पढ़ाई जा रही हैं.

 

कविता ‘आम की टोकरी’ को उत्तराखंड स्थित कवि राम कृष्ण शर्मा खद्दर ने लिखा है, जो बच्चों का साहित्य लिखते हैं, और ये कविता 2006 से एनसीईआरटी पाठ्यपुस्तक रिमझिम का हिस्सा बनी हुई है.

कविता के नीचे उसी पेज पर प्रकाशकों ने छात्रों के लिए अतिरिक्त अभ्यास दिए हैं और अध्यापकों से उनके साथ बाल श्रम के बारे में बात करने के लिए कहा है. किताब में सिफारिश की गई है, ‘बच्चों से पूछिए कि क्या वो ऐसे बच्चों को जानते हैं, जो बाज़ार में चीज़ें बेंचते हैं, और क्या वो स्कूल जाते हैं? अगर वो स्कूल नहीं जाते, तो बच्चे स्कूल में भर्ती होने में उनकी कैसे मदद कर सकते हैं?’.

उसमें साफ साफ ये भी कहा गया है: ‘तस्वीर में लड़की ऐसे दिखा रही है, जैसे वो आम बेंच रही है. बच्चों से कहिए कि वो कक्षा में आम, नींबू, केला, गन्ना, मूंगफली, सेब, दवा की गोलियां जैसी, अलग अलग चीज़ें खाने की नक़ल करें’.

‘छोकरी’ के इस्तेमाल और बाल श्रम पर बंटे एक्सपर्ट्स

कविता की बहुत अधिक समीक्षा या आलोचना ऑनलाइन उपलब्ध नहीं है, और जो थोड़ी बहुत हैं उन्हें छोकरी जैसे शब्द के इस्तेमाल और एक छोटी लड़की को फल ढोते हुए दिखाने में कोई समस्या नहीं दिखती.

ऐसी ही एक समीक्षा में मनोहर चमोली मनु, जो उत्तराखंड से ही हैं और एक अध्यापक हैं, और बच्चों के साहित्य पर काम करते हैं, कहते हैं कि कविता और इसकी रचना विशेष तौर पर, इस तरह डिज़ाइन की गई है, कि बच्चों के हिंदी में ‘आ’ और ‘का’ के स्वर सिखाए जाएं. दूसरे स्वर और अक्षर जैसे ‘ना’ ‘मा’ ‘ए’ आदि इससे पहले के अध्याय में, पहले ही कवर किए जा चुके हैं.

समीक्षा में ये भी कहा गया है, कि इस कविता से बच्चे सड़क पर फिरने वाले बच्चों के बारे में सोच सकते हैं, जो फल, स्नैक्स, और दूसरे सामान बेंचते हैं; वो बच्चे जो स्कूल नहीं जाते और ‘उनसे अलग हैं’.

छोकरी शब्द के इस्तेमाल पर, जिसे किसी कन्या को संबोधित करने के लिए, अकसर एक घटिया शब्द समझा जाता है, चमोली कहते हैं: ‘इस शब्द के इस्तेमाल पर आपत्ति क्यों करते हैं…शब्द वास्तव में एक शब्द ही तो है…बहुत से शब्द जो एक भाषा में गाली से लगते हैं, वो दूसरी भाषाओं में उचित उपयोग समझे जाते हैं’.

दिप्रिंट ने एक मौजूदा और एक पूर्व एनसीईआरटी अधिकारी से बात की, जो दोनों पुस्तक विभाग से नज़दीकी से जुड़े रहे हैं, और दोनों का कहना था कि ये ‘विवाद’ अनावश्यक है.

मौजूदा अधिकारी ने कहा, ‘मुझे इस कविता में कोई समस्या नज़र नहीं आती. इसका मक़सद बच्चों को अक्षर और हिंदी शब्दावली सिखाना है; ये विवाद बिल्कुल अनावश्यक है’.

दिप्रिंट ने एनसीईआरटी के पूर्व निदेशक ऋषिकेश सेनापति को ईमेल के जरिए एक विस्तृत टेक्स्ट मैसेज भेजा गया लेकिन इस ख़बर के छपने तक उनका कोई जवाब नहीं मिला था.

दिप्रिंट ने एनसीईआरटी के मीडिया डिवीज़न को भी ईमेल के जरिए संपर्क किया, लेकिन कोई उत्तर नहीं मिला. अगर उनकी तरफ से कोई उत्तर आता है तो इस खबर को अपडेट किया जाएगा.

लेकिन, प्रसिद्ध कवि और ललित कला अकादमी अध्यक्ष अशोक वाजपेई जैसे लोगों का कहना था, ‘इस बात पर ज़्यादा ध्यान दिया जाना चाहिए, कि कक्षाओं में बच्चों को क्या पढ़ाया जा रहा है’.

वाजपेई ने दिप्रिंट से कहा, ‘जहां तक छोकरी शब्द का सवाल है, मुझे उससे आपत्ति नहीं है, क्योंकि उसे नकारात्मक ढंग से प्रयोग नहीं किया गया है; हिंदी में इसे अकसर स्नेहात्मक तरीक़े से इस्तेमाल किया जाता है. लेकिन, जहां तक छह साल की बच्ची को आम बेंचते हुए दिखाने की बात है, तो मैं ज़रूर कहूंगा कि इससे, लोगों की संवेदनशीलता को ठेस पहुंच सकती है. अब हर कोई बाल श्रम की समस्या से अवगत है, इसलिए कविता से उस तरह का आभास हो सकता है, इसलिए अधिकारियों को ज़्यादा एहतियात बरतनी चाहिए कि वो पाठ्यक्रम में क्या शामिल करते हैं’.

उन्होंने आगे कहा कि अगर कविता अभी भी पढ़ाई जा रही है तो अध्यापकों को ज़्यादा सावधान रहना चाहिए और बच्चों को बाल श्रम की बारीकियों के बारे में समझाना चाहिए, और उन्हें बताना चाहिए कि ये एक समस्या है.

इस बीच, भोपाल में बच्चों के कला और साहित्य के केंद्र, एकतारा बाल साहित्य केंद्र के निदेशक सुशील शुक्ला ने कहा, कि ये आलोचना ऐसे लोगों की ओर से आ रही है, जिन्हें साहित्य और उसकी बारीकियों की समझ नहीं है. शुक्ला ने हिंदी में बच्चों के साहित्य पर व्यापक रूप से काम किया है और वो बच्चों के लिए हिंदी किताबों को देखने वाली एनसीईआरटी कमेटी का हिस्सा भी रहे हैं.

उन्होंने दिप्रिंट से कहा, ‘इस तरह की बातें वो लोग कहते हैं, जो हिंदी साहित्य को नहीं समझते. हिंदी भाषा के अलग अलग रूप होते हैं, और मुझे नहीं लगता कि छोकरी कोई बुरा शब्द है. छोकरी शब्द का प्रयोग सूरदास ने भगवान कृष्ण और राधा की अपनी कविताओं में भी किया है. तो क्या आप सूरदास को अनिपुण कहेंगे?’

कविता में कथित रूप से बाल श्रम को बढ़ावा दिए जाने के मुद्दे पर शुक्ला ने कहा: ‘मेरी राय में, कवि एक ऐसी लड़की के बारे में बात कर रहा है, जो आमों की टोकरी के साथ खेल रही है, वो उन्हें बेंच नहीं रही है, क्योंकि कवि ये भी कहता है ‘नहीं बताती दाम है’. बाल श्रम के बारे में जानना अच्छी बात है, इस विषय पर जानकारी पैदा करने का, ये सही तरीक़ा नहीं है. इस कविता को काफी समय से निशाना बनाया जाता रहा है, और मुझे लगता है कि ये बिल्कुल अनावश्यक है’.

इस लेख को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.


यह भी पढ़ेंः शिक्षा मंत्रालय की स्कूलों के खुलने पर SOP- बच्चों को हमेशा पहने रखना होगा Mask, एंट्री से पहले होगी स्क्रीनिंग


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS