Wednesday, 25 May, 2022
होमसमाज-संस्कृतिराष्ट्रीय बालिका दिवस: वो लड़कियां जिन्होंने तोड़ दी रूढ़ीवादी सोच, बनी गांव की प्रेरणास्रोत

राष्ट्रीय बालिका दिवस: वो लड़कियां जिन्होंने तोड़ दी रूढ़ीवादी सोच, बनी गांव की प्रेरणास्रोत

इन 4 प्रेरक लड़कियों की कहानियों से प्रेरित होकर ग्रामीण पंजाब और हरियाणा की लड़कियां समाज में बदलाव लाने की आकांक्षा के साथ शिक्षित होने के लिए आगे आ रही हैं.

Text Size:

नई दिल्ली: साल 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया नेशनल गर्ल चाइल्ड डे 24 जनवरी को हर साल भारत में मनाया जाता है. अगर आप जानना चाहते हैं कि 24 जनवरी को ही क्यों इस दिन के लिए चुना गया तो बता दें कि आज ही के दिन 1966 में इंदिरा गांधी ने पहली महिला प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली थी.

इस दिन को मनाने के पीछे का उद्देश्य है कि समाज में लड़कियों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया जा सके. ऐसी ही कुछ लड़कियों की कहानियां आज हम तक लाए हैं जो अपने कामों से दूसरी लड़कियों को आगे बढ़ने और उनके अधिकारों की पहचान करने के लिए जागरुक कर रही हैं.

इन 4 प्रेरक कहानियों को साझा करते हुए ग्रामीण पंजाब और हरियाणा की लड़कियां समाज में बदलाव लाने की आकांक्षा के साथ शिक्षित होने के लिए आगे आ रही हैं.

 संजना के डॉक्टर बनने की कहानी

संजना जब छोटी थीं तो उन्होंने डॉक्टर बनने का सपना देखा था. हरियाणा के किसान परिवार में जन्मीं संजना को उनके  पिता ने चौथी क्लास में स्कूल में दाखिला दिलाया था.

स्कूल में एडमिशन के बाद संजना तब तक नहीं रुकी जब तक उन्होंने मेडिकल कंपटीशन पास नहीं कर लिया..वर्ष 2020 में, उसने 610 के स्कोर के साथ नीट परीक्षा पास करने के बाद संजना पीजीआईएमएस रोहतक में एमबीबीएस की पढ़ाई कर रही है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अपनी स्कूली शिक्षा के दौरान, संजना ने कई खेल, प्रश्नोत्तरी और पेंटिंग प्रतियोगिताओं सहित विभिन्न जिला और क्लस्टर-स्तरीय प्रतियोगिताओं में कई पुरस्कार प्राप्त किए. उसने अपने सपनों को उड़ान भरी और ग्यारहवीं कक्षा में मेडिकल स्ट्रीम को चुना.

मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में शिक्षित करने वाली पहली लड़की

ग्रामीण इलाकों में आज भी मासिक धर्म को लेकर कई तरह की वर्जनाएं हैं. यही नही इन दिनों में साफ सफाई को लेकर जानकारियों की भारी कमी है. गांव की महिलाओं और लड़कियों को इस वर्जना को तोड़ने के लिए, खानपुर गांव, लुधियाना की रहने वाली सिमरनजीत कौर ने अपने समुदाय में महिलाओं को शिक्षित करने और सुरक्षित मासिक धर्म स्वच्छता प्रथाओं के अभ्यास और स्वच्छता उत्पादों की उपलब्धता के बारे में ज्ञान फैलाने की पहल करने वाली पहली लड़की बनीं.

संतुलित आहार की आवश्यकता पर सिमरनजीत ने अब तक अपने गांव और उसके आसपास 100 से अधिक लड़कियों को प्रभावित किया है, और वो पंजाब में अपने जागरूकता अभियान को और आगे बढ़ाने के लिए काम कर रही हैं.

सिमरन ने 2019 में इस अभियान की शुरुआत की और आज उन्हें इसके लिए पहचाना जा रहा है, जिसके लिए उन्हें ‘प्रामेरिका स्पिरिट ऑफ कम्युनिटी अवार्ड्स 2019’ (एक वार्षिक राष्ट्रव्यापी खोज) में कांस्य पदक से सम्मानित किया गया. सिमरन स्कूली छात्रों की पहचान करना और पहचानना जिन्होंने स्वयंसेवी सामुदायिक सेवा के माध्यम से अपने समुदायों में सकारात्मक बदलाव किया है). फिलहाल, वह जवाहर नवोदय विद्यालय, खानपुर में शामिल हो गई है, लेकिन फिर भी वह मासिक धर्म स्वच्छता और सुरक्षित मासिक धर्म प्रथाओं के बारे में लड़कियों को शिक्षित करने के लिए प्रतिबद्ध है.

पंजाब के गांव से कई लड़कियों ने खेल में अपना नाम कमाया है. ये वही लड़कियां हैं जो चुनौतियों का सामना कर दूसरों को अपनी क्षमता से प्रेरित करती हैं. उनकी कठिनाइयों के बीच मुस्कुराने की उनकी क्षमता कुछ ऐसी है जिससे हम सभी सीख सकते हैं.

 गांव की पहली महिला पोस्टमास्टर

ऐसी ही एक बेटी है पंजाब  की अमृतपाल कौर.  अमृतपाल कौर के पिता एक किसान हैं और परिवार में अकेले रोटी कमाने वाले थे. अमृत की पारिवारिक आर्थिक स्थिति मजबूत नहीं होने के कारण उसे सत्य भारती आदर्श सीनियर सेकेंडरी स्कूल, झानेरी, पंजाब में प्रवेश मिल गया. स्कूल में, अमृतपाल की लगन और समझदारी को देखते हुए उन्हें  हेड गर्ल बना दिया गया. वो हमेशा से सरकारी नौकरी करना चाहती थीं.

बारहवीं की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उसने ग्रेजुएशन किया और प्रतियोगिता परीक्षा पास करके आज वह पंजाब के बरनाला जिले में सहायक शाखा पोस्टमास्टर के रूप में काम कर रही हैं. अमृतपाल को अपने परिवार की जिम्मेदारी निभाने पर बेहद गर्व है और उन्होंने उस मिथक को खारिज कर दिया है जो लड़कियों को लड़कों की तुलना में कम सक्षम के रूप में परिभाषित करता है.

कैसे बनीं जसमीत कौर दूसरे छात्रों के लिए मेंटर

जसमीत कौर चोगावां गांव की रहने वाली हैं और उन्हें इस बात पर गर्व है कि उनके माता-पिता हमेशा उनकी शिक्षा में सहायता करते रहे हैं. चूंकि वह पढ़ने में तेज थीं इसलिए उसे आगे की पढ़ाई के लिए भारती फाउंडेशन से छात्रवृत्ति की पेशकश की गई थी. वह आईईएलटीएस परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों को कोचिंग क्लास देने के साथ-साथ बीबीए में स्नातक की पढ़ाई कर रही है. वह अब अपने पिता को आर्थिक रूप से भी सपोर्ट कर रही है.


यह भी पढ़ें- शिक्षा, बाल विवाह, जातिवाद…जानें किस तरह जाबाज लड़कियां सामाज के बंधन तोड़ बना रहीं आगे के रास्ते


share & View comments