Monday, 27 June, 2022
होममत-विमत

मत-विमत

मोदी से क्या गुर सीख सकते हैं मामाजी, महारानी और चावल वाले बाबा?

भाजपा के मुख्यमंत्रियों वसुंधरा राजे, शिवराज सिंह चौहान और रमन सिंह से नरेंद्र मोदी एक क्षेत्र में आगे हैं.

शहरों के नाम बदलने को लेकर कैसे नेहरू और योगी के विचार अलग अलग हैं

मायावती दलित नायकों के नाम पर ज़िलों के नाम रखती हैं जो कि इससे बिलकुल अलग नहीं है जो आदित्यनाथ फैज़ाबाद और अय़ोध्या में करते हैं.

क्यों कांग्रेस को अब परिवारवाद पर शर्माना बंद कर देना चाहिए

अमित शाह भाजपा को परिवारों के गुट की तरह चला रहे हैं और कांग्रेस पर परिवारवादी होने का आरोप भी लगा रहे हैं.

सीबीआई कैसे पिजड़े के तोते से जंगली गिद्ध बन गई 

सीबीआई में नंबर एक और दो के नेतृत्व में दो ग्रुप हैं. प्रत्येक का दावा है कि वे 'असली वाले' हैं और दूसरे को चोर बुलाया जा रहा है.

दुनिया की तुलना में दिल्ली मेट्रो में इतनी कम सवारी क्यों चढ़ती हैं

दिल्ली का वायु प्रदूषण नहीं ख़त्म होगा.आम दिनों में भी वायु गुणवत्ता सूचकांक ख़राब रीडिंग दिखाता है. प्राधिकरण निजी वाहनों पर प्रतिबंध लगाने पर...

हड़बड़ी में लाया जा रहा ‘गंगा एक्ट’ रेगिस्तान में जहाज़ चलाने की कोशिश है

हल्दिया से रवाना जहाज़ बनारस पहुंचने तक चार बार रुका, क्योंकि गंगा में पानी कम था. आनन-फानन में पानी भरकर माहौल बनाया गया लेकिन असल सवाल है कि गंगा में पानी कैसे आएगा.

दीपिका-रणवीर की शादी कवर करने में भारतीय पत्रकार हुए फेल

विराट अनुष्का ने तो नहीं बताया था, पर दीपिका और रणबीर ने पहले ही अपनी शादी के बारे में सब कुछ बता दिया और फिर भी आप फेल हो गए.

राजीव से लेकर मोदी तक ने जिस ‘मुस्लिम तुष्टीकरण’ का जिक्र किया, वो क्या बला ​है?

‘मुस्लिम तुष्टीकरण’ का विचार लगभग तीन दशकों से भारतीय राजनीति पर छाया हुआ है. दिलचस्प बात यह है कि ‘मुस्लिम तुष्टीकरण’ के जुमले को किसी ने अभी तक परिभाषित नहीं किया है.

क्या 2004 की तरह होगी मोदी की हार, 11 दिसंबर तक करना होगा इंतज़ार

राम और राफेल नहीं, अगले आम चुनावों में ग्रामीण संकट सबसे बड़ा मुद्दा है. पांच राज्यों के चुनाव परिणामों से कहानी साफ हो जाएगी.

राज्यों के चुनाव भाजपा के लिए बुरी खबर लेकिन कांग्रेस के लिए भी खुशी का पैगाम नहीं

राज्यों के विधानसभा चुनाव में भले ही भाजपा का ग्राफ गिर रहा हो लेकिन सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी कांग्रेस भी कोई खास करामात नहीं दिखा पा रही है.

मत-विमत

26/11 के मास्टरमाइंड साजिद मीर की सजा से लश्कर के आतंक का खतरा खत्म नहीं हुआ

पाकिस्तानी हुक्मरानों ने एफएटीएफ प्रतिबंधों के खतरों से निपटने के लिए जेहादी मुहिम पर रोक जरूर लगा दी है लेकिन कश्मीर में उसके दूसरी पांत के कमांडरों की सक्रियता आसन्न खतरे से आगाह करती है.

वीडियो

राजनीति

देश

पत्नी की हत्या कर थाने पहुंचा युवक

मेरठ (उत्तर प्रदेश), 27 जून (भाषा) उत्तर प्रदेश के मेरठ नगर के मोहनपुरी इलाके में सोमवार को एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी की...

लास्ट लाफ

बाढ़ प्रभावित असम में विधायकों की ‘छुट्टी’ और कैसे MVA मॉकटेल तेज कॉकटेल के खिलाफ है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.