Thursday, 27 January, 2022

शेखर गुप्ता

शेखर गुप्ता
256 पोस्ट0 टिप्पणी
शेखर गुप्ता 'दिप्रिंट'के एडिटर-इन-चीफ तथा चेयरमैन हैं. इनसे संपर्क करें- shekhar.gupta@theprint.in इनका ट्विटर है- @ShekharGupta

मत-विमत

यमन के कमजोर बागी विश्व अर्थव्यवस्था के लिए जोखिम बने और साबित किया कि फौजी ताकत की भी एक सीमा होती है

ईरान और सऊदी अरब अब बातचीत कर रहे हैं लेकिन जंग के जिन्न को वापस बोतल में बंद करने में शायद बहुत देर हो चुकी है. यमन में सत्ता के दलाल अपने दबदबे के लिए हिंसा पर ही निर्भर हैं.

वीडियो

राजनीति

देश

टॉरेंट फार्मास्युटिकल्स के शेयर लगभग 17 प्रतिशत टूटे

नयी दिल्ली, 27 जनवरी (भाषा) दवा कंपनी टॉरेंट फार्मास्युटिकल्स के शेयर में बृहस्पतिवार को करीब 17 फीसदी की गिरावट आई। दरअसल कंपनी का शुद्ध...

लास्ट लाफ

भारत के गरीब अब भी VIPs को सहन कर रहे हैं और डॉ अंबेडकर का मैकाले के भूत से जुड़ा एक सवाल है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.