Thursday, 27 January, 2022

नंदिता सिंह

नंदिता सिंह
31 पोस्ट0 टिप्पणी
नंदिता सिंह 'दिप्रिंट' में पत्रकार हैं. इन्होंने लेडी श्रीराम कॉलेज से अंग्रेजी साहित्य में बीए किया है और यंग इंडिया की फेलो हैं. इन्हें समाजविज्ञान और इससे जुड़े मसलों से गहरा लगाव है. अपने ब्लॉग, भाषणों, कार्यशालाओं और पेनल विचार-विमर्श के जरिए ये दुनिया को ज्यादा सूचना संपन्न, उदार और सहिष्णु बनाने की कोशिश में जुटी रहती हैं. नीतिगत निर्णयों का नागरिक समाज पर आर्थिक, सामाजिक तथा राजनीतिक तौर पर क्या प्रभाव पड़ता है, ऐसे सवालों में इनकी खास दिलचस्पी है. राजनीति व्यंग्य तथा संस्कृति में विशेषज्ञता रखने के साथ ये इर्दगिर्द की संस्थाओं के साथ लोगों के संबंधों की पड़ताल करती हैं. इनसे संपर्क करें- nandita.singh@theprint.in इनका ट्वीटर है- @nandita_singh1

मत-विमत

यमन के कमजोर बागी विश्व अर्थव्यवस्था के लिए जोखिम बने और साबित किया कि फौजी ताकत की भी एक सीमा होती है

ईरान और सऊदी अरब अब बातचीत कर रहे हैं लेकिन जंग के जिन्न को वापस बोतल में बंद करने में शायद बहुत देर हो चुकी है. यमन में सत्ता के दलाल अपने दबदबे के लिए हिंसा पर ही निर्भर हैं.

वीडियो

राजनीति

देश

टॉरेंट फार्मास्युटिकल्स के शेयर लगभग 17 प्रतिशत टूटे

नयी दिल्ली, 27 जनवरी (भाषा) दवा कंपनी टॉरेंट फार्मास्युटिकल्स के शेयर में बृहस्पतिवार को करीब 17 फीसदी की गिरावट आई। दरअसल कंपनी का शुद्ध...

लास्ट लाफ

भारत के गरीब अब भी VIPs को सहन कर रहे हैं और डॉ अंबेडकर का मैकाले के भूत से जुड़ा एक सवाल है

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए दिन के सबसे अच्छे कार्टून्स.