scorecardresearch
Friday, 19 July, 2024
होम50 शब्दों में मतओडिशा के IAS अधिकारियों को पता होना चाहिए कि उन्होंने शपथ संविधान की ली है, पोलिटिकल मास्टर्स की नहीं

ओडिशा के IAS अधिकारियों को पता होना चाहिए कि उन्होंने शपथ संविधान की ली है, पोलिटिकल मास्टर्स की नहीं

दिप्रिंट का 50 शब्दों में महत्वपूर्ण मामलों पर सबसे तेज नजरिया.

Text Size:

बीजेपी का ओडिशा के आईएएस, आईपीएस अधिकारियों को राजनेताओं के रूप में बताना थोड़ा कठोर और व्यापक है लेकिन पूरी तरह से खोखला नहीं है. उनका यह काम नहीं था कि वो चुनावी जीत पर सीएम नवीन पटनायक को बधाई दें. उन्हें यह याद रखना चाहिए कि उनकी निष्ठा की शपथ संविधान के प्रति है, राजनीतिक आकाओं के लिए नहीं.

मॉस्को का कदम वापस लेने का वादा उत्साहजनक है और पुतिन को अभी के लिए ‘चेहरा बचाना’ की इजाजत दी जानी चाहिए

भले ही रूस-यूक्रेन वार्ता उनके युद्ध को खत्म करने के लिए बहुत दूर है, मॉस्को द्वारा सैनिकों की वापसी का वादा एक उत्साहजनक कदम है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सेना ने बाजी मार ली है, लेकिन उसके पास अभी भी विकट विनाशकारी क्षमताएं हैं. यह सुनिश्चित करने के लिए कि पुतिन उनका उपयोग नहीं करते हैं, उन्हें अभी के लिए ‘चेहरा बचाने’ की अनुमति देनी होगी.

share & View comments